Ayodhya : योगी की मूर्ति रातों रात गायब हो गई, ना ग्रामीण,ना प्रशासन को पता | Yogi’s idol was stolen overnight, neither the villagers nor administra | Patrika News

श्री योगी की मंदिर में 7 दिन दीपक जलने के बाद अचानक से योगी की प्रतिमा गायब हो गई । किसा को पता तक नहीं चला । ना गांव वालों को पता है और ना प्रशासन को । जिस शख्स ने मंदिर का निर्माण कराया था, वह भी लापता बताया जा रहा है। योगी के मंदिर में ताला लगने और मूर्ति गायब होने की चर्चा जोरों पर है।

यह भी पढ़ें

सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष और ब्लाक प्रमुख कैलाश यादव पर प्रशासन का एक्शन,4 करोड़ की संपत्ति हुई कुर्क

सीएम योगी की प्रतिमा प्रभाकर मौर्य ने अपने घर के पास खाली पड़ी जमीन में बनवाया था । इसी बीच प्रभाकर के चाचा रामनाथ मौर्य ने पुलिस से शिकायत की और कहा कि जिस बंजर भूमि पर श्री योगी का कब्जा है वह जमीन उसकी पुस्तैनी है। प्रभाकर ने खाली पड़ी जमीन पर योगी की मंदिर बनवाकर कब्जा कर लिया है ।

रामनाथ मौर्य ने एसडीएम को पत्र देने के बाद सीएम योगी की पोर्टल पर शिकायत की । इसके बाद एसडीएम सोहावल मनोज कुमार श्रीवास्तव ने रविवार को राजस्व और पुलिस टीम मौके पर पैमाइश के लिए भेजी। सूचना के बावजूद प्रभाकर मौर्य वहां नहीं पहुंचे।

राजस्व विभाग ने जब अपनी प्रारंभिक जांच शुरू की तब पता चला कि यह जमीन आचार्य नरेंद्रदेव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज के अंतर्गत संचालित फसल अनुसंधान केंद्र मसौधा की निकली। फिलहाल अभी जमीन की पूरी पैमाइश नहीं हो पाई है ।

दरअसल कल रविवार को जब जमीन की पैमाइश हो रही थी तब उस समय बारिश होने लगी । इसलिए अभी जमीन की जांच नहीं हो पाई है । सोमवार को जब जांच पूरी होगी तब पता चलेगा कि यह बंजर जमीन किसकी है ?

यह भी पढ़ें

AMU छात्र के साथ युवकों ने की मारपीट,हाथों में हथियार थमाकर कहा कि कह तू चोर हैं

अखिलेश ने योगी मंदिर पर सवाल उठाते हुए कहा कि इस मंदिर पर बुलडोजर कौन चलाएगा ?
कल्याण भदरसा में योगी के मंदिर की सूचना जब सोशल मीडिया पर फैली तब समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट कर तंज कसा था कि योगी आदित्यनाथ का मंदिर बना। इसके बाद जब प्रभाकर मौर्य के चाचा रामनाथ मौर्य ने शिकायत की तो अखिलेश ने फिर ट्वीट कर कहा कि विवादित जमीन पर बने इस मंदिर पर बुलडोजर कौन चलाएगा ?



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.