T20 World Cup 2022: क्या इस बार वर्ल्ड कप का तिलिस्म तोड़ पाएगी दक्षिण अफ्रीका

नई दिल्ली. मार्क बाउचर अपने लंबे करियर में खिलाड़ी के तौर पर दक्षिण अफ्रीका को टी20 वर्ल्ड कप चैम्पियन बनते हुए नहीं देख सके. हालांकि, बतौर कोच उनके पास ऐसा करने का मौका होगा या नहीं, इस पर सवाल बरकरार है. दक्षिण अफ्रीका ने कभी भी ‘50 ओवर या 20 ओवर’ के वर्ल्ड कप में ट्रॉफी नहीं जीती है. इस बार भी ऑस्ट्रेलिया में भी जीत की उम्मीदें इतनी अच्छी नहीं है क्योंकि टीम की तैयारियों को झटका लगा है. कप्तान तेम्बा बावुमा अपने स्थान के लिए दबाव में हैं, रासी वैन डर डुसेन और ड्वेन प्रिटोरियस चोटों के कारण बाहर हैं जबकि ‘बिग हिटर’ डेविड मिलर यह काम अकेले नहीं कर सकते.

दक्षिण अफ्रीका टूर्नामेंट में भारत से 1-2 से सीरीज गंवाने के बाद ऑस्ट्रेलिया पहुंच रहा है. टीम वर्ल्ड कप टी20 में कभी भी सेमीफाइनल से आगे नहीं पहुंची है. टीम ने अंतिम बार 2014 में अंतिम चार में प्रवेश किया था. दक्षिण अफ्रीका ग्रुप दो में भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और दो अन्य क्वालीफायर के साथ है. बाउचर घोषणा कर चुके हैं कि वह टी20 वर्ल्ड कप के बाद पद से हट जायेंगे और इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में मुंबई इंडियंस के कोच के तौर पर नया पद संभालेंगे.

कप्तान बावुमा की बल्लेबाजी पर सवाल उठ रहे हैं जिन्होंने कोहनी की चोट के बाद टी20 विश्व कप के लिये सही समय पर वापसी की. बावुमा खेल के इस प्रारूप में अपने करियर में केवल एक ही अर्धशतक लगा पाये हैं और वह भी आयरलैंड के खिलाफ. उन्हें 2023 सत्र के लिये दक्षिण अफ्रीका की घरेलू टी20 टीमों ने नीलामी में नहीं खरीदा जिसे राष्ट्रीय कप्तान के लिये अपमान के तौर पर देखा गया. लेकिन बाउचर ने उन पर पूछे एक सवाल के जवाब में कहा था, ‘‘तेम्बा बावुमा हमारी टीम का कप्तान है और मैं उसका शत प्रतिशत समर्थन करूंगा.’’

मिलर टी20 क्रिकेट के सबसे प्रभावी बल्लेबाजों में से एक हो सकते हैं. उन्होंने भारत में हुई सीरीज में इसका नजारा भी पेश किया जब उन्होंने 47 गेंद में 106 रन जड़ डाले. लेकिन मिलर की इस पारी के बावजूद टीम हार गई. वैन डर डुसेन की ऊंगली में चोट से दक्षिण अफ्रीका को काफी नुकसान हुआ क्योंकि वह पिछले 12 महीनों में निरंतर प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी थे. रिली रोसू लंबे समय बाद राष्ट्रीय टीम में वापसी की और भारत में एक शतक जड़ा लेकिन दो बार शून्य पर भी आउट हुए.

T20 World Cup 2022: 3 वर्ल्ड कप फाइनल हारने वाली न्यूजीलैंड की टीम इस बार नहीं बतरेगी कोताही

डुसेन के नहीं होने से उभरते हुए स्टार ट्रिस्टन स्टब्स को और मौके मिल सकते हैं. क्विंटन डिकॉक और ऐडन मार्करम पर भी दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में शामिल होने से अपनी ख्याति के अनुरूप खेलने का दबाव होगा. प्रिटोरियस भारत में अंगूठे में चोट लगा बैठे जो ऑस्ट्रेलिया में टीम के पहली पसंद के ऑलराउंडर होते. तेज गेंदबाजी हमेशा दक्षिण अफ्रीका की मजबूती रही है लेकिन टी20 क्रिकेट में स्पिनर काफी प्रभावी हो रहे हैं जिससे टीम को सांमजस्य बिठाना होगा.

T20 World Cup 2022: अफगानिस्तान मुश्किल ग्रुप में, जानें राशिद खान की टीम की ताकत व कमजो

दक्षिण अफ्रीका के पास केशव महाराज और तबरेज शम्सी के रूप में दो मजबूत स्पिन विकल्प हैं. दक्षिण अफ्रीका को अभी तक कगिसो रबाडा, एनरिच नॉर्किया और लुंगी एनगिडी को टी20 में इस्तेमाल करने का तरीका पता नहीं चला है. ऑस्ट्रेलिया में तेज और उछाल भरी पिचों पर ‘लाइन एवं लेंथ’ सही रखना अहम होगा.

टीम : तेम्बा बावुमा (कप्तान), क्विंटन डिकॉकड, रीजा हेड्रिंक्स, हेनरिच क्लासेन, केशव महाराज, ऐडन मार्कराम, डेविड मिलर, लुंगी एनगिडी, एनरिच नॉर्किया, वेन पार्नेल, कगिसो रबाडा, रिली रोसू, तबरेज शम्सी, ट्रिस्टन स्टब्स.

(नोट : टीम में एक और खिलाड़ी शामिल किया जाएगा क्योंकि ड्वेन प्रिटोरियस की जगह खिलाड़ी के नाम की घोषणा अभी नहीं हुई है.)

Tags: Mark Boucher, South africa, T20 World Cup, T20 World Cup 2022, Temba Bavuma

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.