Shajapur: नगर पालिका ने आमदनी बढ़ाने के लिए बनाई थीं दुकानें, कुछ हुईं जर्जर तो कई पर हुआ अवैध कब्जा

रिपोर्ट: मोहित राठौर

शाजापुर. मध्‍य प्रदश की शाजापुर नगर पालिका ने आमदनी बढ़ाने के उद्देश्य से शहर में कई जगह पर दुकानों और कॉम्पलेक्स का निर्माण किया था, लेकिन दुकानों और कॉम्पलेक्स में कोई रुचि नहीं दिखा रहा है. हालात ऐसे हैं कि इससे आमदनी होना तो दूर, लागत भी नहीं निकल पाई है. जबकि कई जगह वर्षों पहले हुआ निर्माण जर्जर हो रहा है, तो कुछ जगह पर अवैध कब्जा भी हो गया है. वहीं, लंबे समय से इनकी नीलामी भी नहीं की गई है. ऐसे में यह प्रोजेक्‍ट शाजापुर नगर पालिका के लिए घाटे का सौदा साबित हो रहा है.

बता दें कि शाजापुर नगर पालिका ने कुछ वर्ष पहले सब्जी मंडी में कॉम्पलेक्स का निर्माण किया गया था. इस दौरान दो दर्जन से ज्यादा दुकानें बनाई गई थीं. वहीं, शुरुआती दौर में कहा गया था कि नीलामी सब्जी विक्रेताओं को की जाएगी. इससे नगर पालिका को आमदनी होने लगेगी. जबकि सब्जी मंडी में सड़क पर लग रही दुकानें भी हट जाएंगी, लेकिन पुरानी मंडी को तोड़कर बनाया यह कॉम्पलेक्स आज भी वीरान है. अब तक नीलामी प्रक्रिया के बाद भी एक भी दुकान नीलाम नहीं हुई. नगरपालिका की लगातार अनदेखी के कारण कई जगह तो लोगों ने अतिक्रमण कर लिया है.

हाट मैदान में हुए बुरा हाल
शहर के हाट मैदान में कई साल पहले नगरपालिका ने दुकानें बनाई थी. दुकानें काफी साल तक खाली पड़ी रहीं और इस वजह से कई जर्जर होने लगी थीं. बाद में नगर पालिका ने मरम्मत कराई. इसके बाद नीलामी प्रक्रिया में कुछ दुकानें जरूर खुल गईं, लेकिन बाकी कॉम्पलेक्स खाली पड़ा है, जो कि देखरेख के अभाव में जर्जर होता जा रहा है. बता दें कि धान मंडी क्षेत्र के समीप स्थित ओंकारेश्वर मंदिर के पास पुराना नगरपालिका का भवन था. इसे तोड़कर नगर पालिका ने कॉम्पलेक्स बनाया था. बहरहाल, इस दो मंजिला कॉम्पलेक्स में ऊपर और नीचे दुकानें बनाई गईं. इसमें नीचे तो धीरे-धीरे दुकानें खुल गईं, लेकिन प्रथम तल पर स्थित दुकानें बंद पड़ी हैं.

नहीं हुई लंबे समय से नीलामी
नगरपालिका ने शहर के प्राइवेट बस स्टैंड और इसके आसपास भी कॉम्पलेक्स का निर्माण कराया. इसके बाद दुकानों की नीलामी की तो कई दुकानें नीलाम हो गईं थी. बस स्टैंड के निर्माण के चलते यहां से हटाए गए दुकानदारों को प्राइवेट बस स्टैंड पर बने कॉम्पलेक्स की खाली पड़ी दुकानों में शिफ्ट कर दिया गया. वहीं, जो अन्य कॉम्पलेक्स शहर में बने हुए हैं उनकी नीलामी लंबे समय से नहीं हुई. ऐसे में करोड़ों का निर्माण वीरान पड़ा हुआ है.

पीआइसी बैठक में लेंगे निर्णय
शाजापुर के मुख्य नगर पालिका अधिकारी राकेश चौहान ने कहा कि कई कॉम्पलेक्स वर्षों पहले बनाए हुए हैं. कोई खरीदार ही नहीं मिल पा रहा है. हाट मैदान में बनी दुकानों के बाहर कुछ लोगों ने कब्जा किया है, उन्हें हटवाया जाएगा. नगरपालिका की आगामी पीआइसी की बैठक में दुकानों की नीलामी के लिए निर्णय लेंगे. इसके बाद विधिवत नीलामी की जाएगी.

Tags: Mp news

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.