Saharsa : 10 लाख में हर साल बनता है बांस का पुल, 5 महीने बाद खोल लेते हैं लोग, इस पर चलने की लगती है फीस!

रिपोर्ट – मो. सरफराज आलम

सहरसा. बिहार के कोसी, मिथिलांचल और सीमांचल क्षेत्र में हर साल कोसी, कमला, बलान जैसी नदियां बाढ़ का कहर लेकर आती है. यह बाढ़ तबाही मचाने के साथ-साथ आवागमन को भी अवरुद्ध कर देता है. आपको जानकर आश्चर्य होगा कि यहां नदियों पर हर साल ऐसे भी सैकड़ों पुल बनाए जाते हैं, जो महज पांच माह ही काम आते हैं. नदियों में पानी का दबाव बढ़ते ही इन पुलों को खोल कर रख लिया जाता है. सहरसा जिले के महिषी प्रखंड के राजनपुर पंचायत के घोंघसम घाटकी में इन दिनों लगभग 800 मीटर लंबा बांस का चचरी पुल बनाए जाने का काम जोरों पर है.

बरसात के मौसम से पहले तक यह पुल काम आएगा. बाढ़ वाली नदियों के आसपास ऐसे कई पुल हैं, जो कुछ महीनों के लिए ही बनाए जाते हैं. कई बार यह तेज बहाव में टूटकर बह भी जाते हैं. इसके बाद इस इलाके में लोगों के आवागमन का सहारा एकमात्र नाव ही होती है. स्थानीय घटवार (नाविक) बताते हैं कि 4 साल पहले तक यहां नाव ही एकमात्र सहारा था. लेकिन इस रूट से गुजरने वाले लगभग 40-45 गांव के लोगों के आग्रह पर चंदा जमा कर यह चचरी पुल बनाए जाने का सिलसिला शुरू हुआ क्योंकि जब नदी में कम पानी होता है तो नाव ठीक से नहीं चल पाती. पैदल या बाइक लेकर गुजरना भी मुश्किल भरा होता है.

चचरी पुल बनने में लगता है एक महीना

घोंघसम घाट पर चचरी पुल बनवा रहे घटवार ने बताया लगभग 800 मीटर लंबे इस चचरी पुल को बनाने में 1 माह का समय लग जाता है. हजारों बांस का यह पुल कई मजदूर मिलकर बनाते हैं. वह बताते हैं कि इस बांस के बने पुल पर पैदल के साथ-साथ बाइक सवार गुजरते हैं. जब नदी में पानी भर जाता है तो या तो चचरी पुल टूटकर बहाव के साथ बह जाता है या फिर हम लोग खुद ही खोल कर रख लेते हैं. अगले साल नया बांस जोड़कर फिर से पुल खड़ा करते हैं.

इस पुल पर चलना फ्री नहीं है!

स्थानीय घटवार सनोज कुमार यादव के मुताबिक पुल से आवाजाही पर यहां के लोग पैदल चलने वाले राहगीरों से मेंटेनेंस के नाम पर 10-10 रुपया लेते हैं. उन्होंने बताया इस रूट से लगभग 40-45 गांव के लोग आवागमन करते हैं. आवागमन की समस्या को देखते हुए इस इलाके के लोग लंबे समय से इस घाट पर कम से कम एक पीपा पुल बनवा देने की मांग करते आ रहे हैं. लेकिन अब तक लोगों की सुनवाई नहीं हुई.

Tags: Bihar News, Bridge Construction

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *