Osteoarthritis Pain: घुटनों के दर्द से राहत दिलाने में स्टेरॉयड इंजेक्शन सही है या हायल्यूरॉनिक एसिड, रिसर्च में चौंकाने वाले खुलासे

हाइलाइट्स

कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन से 4 से 8 सप्ताह तक ऑस्टियोआर्थराइटिस का दर्द रूक जाता है
हाइल्यूरोनिक एसिड के इंजेक्शन से लंबे समय तक दर्द को कम करने में मदद मिलती है.

Osteoarthritis Pain relief injection:ओस्टियोआर्थराइटिस या घुटनों में दर्द या गठिया बहुत ही दर्दनाक बीमारी है. ओस्टियोआर्थराइटिस में घुटनों में इस कदर दर्द होता है कि इसे सहना मुश्किल हो जाता है. दरअसल, ऑस्टियोआर्थराइटिस में जोड़ों के बीच को सपोर्ट करने वाला गद्देदार कार्टिलेज घिस जाता है जिसके कारण हड्डियां एक-दूसरे से टकराने लगती है. इस स्थिति में कोई भी काम करते समय दोनों घुटने घिसने लगते हैं जिसके कारण असहनीय दर्द होता है. इसमें चलना दूभर हो जाता है. घुटनों में स्टीफनेस आ जाता है. यहां तक कि घुटनों के उपर सूजन निकलने लगती है. आमतौर पर 45 से उपर के लोगों में घुटनों में दर्द शुरू हो जाता है जो 50 के बाद बढ़ने लगता है. जिन लोगों में दर्द ज्यादा बढ़ जाता है तो इसका मतलब है कि उसे ऑस्टियोआर्थराइटिस ने अपना शिकार बना लिया है. ऑस्टियोआर्थराइटिस में दर्द से मुक्ति के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड और हाइल्यूरोनिक एसिड के इंजेक्शन दिए जाते हैं. लेकिन क्या यह कारगर है, इसे लेकर दो अध्ययन हुए हैं.

इसे भी पढ़ें-  Diabetes Cure: शुगर के मरीज नाश्ते के दौरान कभी न करें ये गलतियां, वरना हाई हो जाएगा डायबिटीज

क्या बीमारी और बढ़ जाती
मेडिकल न्यूज टूडे के मुताबिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन से 4 से 8 सप्ताह तक ऑस्टियोआर्थराइटिस का दर्द रूक जाता है वहीं हाइल्यूरोनिक एसिड के इंजेक्शन से लंबे समय तक दर्द को कम करने में मदद मिलती है. लेकिन हाल के दिनों में हुए अध्ययन ने कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन को लेकर चिंता जाहिर की गई है. 2017 के एक अध्ययन में पता चला कि बार-बार कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन लेने से इसका प्रभाव उतना असरदार नहीं था जितना अन्य तरह के इंजेक्शन लेने से हुए. वहीं ऑस्टियोआर्थराइटिस बीमारी और बढ़ती ही चली गई. अब, दो नए स्वतंत्र अध्ययनों में भी कहा गया है कि कॉर्टिकोस्टेरॉइड घुटने के दर्द या पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस को और बढ़ा देता है.


एक्सरसाइज ज्यादा बेहतर
नया अध्ययन यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की डॉ उपासना भारद्वाज के नेतृत्व में किया गया है. उन्होंने दोनों तरह के इंजेक्शन के प्रभावों पर पिछले चार साल से अध्ययन किया है. दूसरा अध्ययन शिकागो मेडिकल स्कूल के आजाद दारबंदी के नेतृत्व में किया गया है. दोनों अध्ययन का लब्बोलुआब यह था कि कॉर्टिकोस्टेरॉइड का इंजेक्शन कुछ समय के लिए भले ही दर्द को कम कर दें लेकिन लंबे समय तक इसका कोई प्रभाव नहीं होता, वहीं यह बीमारी को और अधिक बढ़ा भी देता है. इसलिए घुटनों में दर्द होने या ऑस्टियोआर्थराइटिस के दर्द से निजात पाने के लिए एक्सरसाइज ही सबसे बेस्ट है. हालांकि अध्ययन में हाइल्यूरोनिक एसिड का प्रभाव अपेक्षाकृत बढ़िया देखा गया लेकिन अध्ययन में सुझाव दिया गया कि ऑस्टियोआर्थराइटिस के लिए 3-6 महीने तक पहले सामान्य इलाज ही करें.

इसे भी पढ़ें- Omega 3 Deficiency: दिल और दिमाग को कमजोर बना देती है ओमेगा-3 की कमी, ऐसे करें शरीर में इसकी पूर्ति

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *