Muzaffarpur: होमी भाभा कैंसर हॉस्पिटल मरीजों के लिए बना वरदान, सुविधाओं के मामले में पटना AIIMS भी पीछे

रिपोर्ट – अभिषेक रंजन

मुजफ्फरपुर. सीमित संसाधनों के बावजूद कुछ कर गुजरने का जुनून और जज्बा हो तो आपको मंजिल से कोई डिगा नहीं सकता. साथ ही समाज के प्रति समर्पित भाव से कार्य करने में भी आपको कोई नहीं रोक सकता है. कुछ ऐसा ही मुजफ्फरपुर के होमी भाभा कैंसर हॉस्पिटल के चिकित्सकों ने कर दिखाया है. भारतीय परमाणु ऊर्जा विभाग द्वारा मुजफ्फरपुर में पिछले 1 साल 10 महीने से बिना बिल्डिंग के प्रीफैबरीकेटेड स्ट्रक्चर्स में कैंसर अस्पताल चल रहा है.

एसकेएमसीएच मेडिकल कॉलेज परिसर में यह अस्पताल बिना बिल्डिंग के सिर्फ टेंट के स्ट्रक्चर में अब तक 42 हजार मरीजों का इलाज कर चुका है. साथ ही 12 हजार लोगों ने कीमोथेरेपी भी कराई है. इससे कहीं आगे बढ़कर मुजफ्फरपुर के इस अस्पताल ने अब तक 2 हजार कैंसर मरीजों का मेजर और माइनर ऑपरेशन भी कर दिया है. इसके साथ मुजफ्फरपुर के होमी भाभा कैंसर अस्पताल ने बिना बिल्डिंग के बिहार के सबसे बड़े कैंसर अस्पतालों में अपना नाम शुमार कर लिया है.

कैंसर का जिनोम सीक्वेंसिंग की सुविधा है उपलब्ध
मुजफ्फरपुर के होमी भाभा कैंसर अस्पताल में कैंसर जिनोम सीक्वेंसिंग के साथ-साथ कई बड़ी सुविधाएं उपलब्ध हैं, जो बिहार के किसी अन्य अस्पताल में नहीं है. मुजफ्फरपुर होमी भाभा कैंसर अस्पताल के ऑफिसर इंचार्ज डॉ. रविकांत ने बताया कि बिना भवन के हमने बहुत अच्छा परफॉर्मेंस देने का प्रयास किया है. वह बताते हैं कि मुजफ्फरपुर का होमी भाभा कैंसर अस्पताल कैंसर के मरीजों की जरूरत और उनकी गंभीरता को समझता है.

परमाणु ऊर्जा विभाग द्वारा संचालित होता है अस्पताल
यह अस्पताल भारतीय परमाणु ऊर्जा विभाग द्वारा चलाया जा रहा है. डॉ.रविकांत ने बताया कि जिन मरीजों के पास इलाज कराने के लिए पैसों की कमी है, उनके लिए भी इस अस्पताल में बेहतर विकल्प है. मुजफ्फरपुर का होमी भाभा कैंसर अस्पताल अपने मरीजों को सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए एक स्पेशल काउंटर भी चलाता है.

मरीजों को वर्ल्ड क्लास फैसिलिटी उपलब्ध कराने का है प्रयास
डॉ. रविकांत बताते हैं कि होमी भाभा कैंसर अस्पताल मुजफ्फरपुर की आगामी कई योजनाएं हैं. इस अस्पताल का प्रयास है कि कैंसर के मरीजों में अधिक से अधिक कमी आए और जो कैंसर से पीड़ित है उन्हें वर्ल्ड क्लास सुविधा मुजफ्फरपुर में ही मिल पाए. अच्छा परफॉर्म करने के लिए हमें अच्छी बिल्डिंग नहीं बल्कि तत्परता और लगन की जरूरत थी जो हमारे भीतर है. प्रीफैबरीकेटेड स्ट्रक्चर में ही हम कई बड़े इंफ्रास्ट्रक्चर वाले अस्पतालों को टक्कर दे रहे हैं.

Tags: Bihar News, Homi Bhabha Cancer Hospital, Muzaffarpur news

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *