Jasprit Bumrah Birthday: बचपन में पिता को खोया, जूते खरीदने के भी नहीं थे पैसै, जानें बुमराह अपने संघर्ष से कैसे बने यॉर्कर किंग

Happy Birthday Jasprit Bumrah: भारतीय टीम के धमाकेदार गेंदबाज और यार्कर किंग जसप्रीत बुमराह अपना 28वां जन्मदिन मना रहे हैं। 6 दिसंबर 1993 को गुजरात के अहमदाबाद में जन्में बुमराह का नाम आज हर किसी की जुबां पर रहता है। उनकी गेंदबाजी के देश विदेश हर जगह चर्चे होते हैं। बुमराह फिलहाल चोट के चलते टीम से बाहर चल रहे हैं लेकिन वे जल्द ही वापसी करेंगे। बुमराह आज करोड़ो की संपत्ति के मालिक हैं, लेकिन एक समय ऐसा भी था जब उनके पास जुते खरीदने के भी पैसे नहीं थे। आइये जानते है उनके संघर्ष की कहानी।

पांच साल की उम्र में पिता को खोया, एक ही जूते पहनकर रोज करते थे प्रेक्टिस

यॉर्कर किंग जसप्रीत बुमराह का जीवन काफी संघर्षमय रहा। बुमराह की उम्र महज 5 वर्ष थी जब उनके पिता का निधन हो गया और बुमराह और उनकी बहन जुहिका की जिम्मेदारी उनकी मां के कंधों पर आ गई। बुमराह का बचपन इतनी गरीबी में बीता की उनके पास सिर्फ एक टी शर्ट हुआ करती थी, जिसे वह रोज धोते थे ताकि उसे अगले दिन पहन सकें। इसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और अपने सपने को पूरा करने के लिए संघर्ष करते रहे।

14 साल की उम्र में मां को बताई क्रिकेटर बनने की ख्वाहिश

बुमराह जब 14 वर्ष के हुए तब उन्होंने पहली बार अपनी मां से क्रिकेटर बनाने की खोहिश जाहिर की, बुमराह बताते हैं कि उनका सिलेक्शन प्रोसेस किसी फिल्मी कहानी सा लगता है जब एक दिन उन्हें खेलता देख सेलेक्टर ने उन्हें मौका दिया । गुजरात की टीम के लिए खेलने के बाद बुमराह को आईपीएल में खेलने का मौका मिला। बुमराह की मां दलजीत बताती हैं कि जब उन्होंने अपने बेटे को टीवी पर देखा तो अपने आंसू रोक ना सकी, इतनी गरीबी और तकलीफें झेलने के बाद अपने बेटे को सफल होता देख दिल को बड़ी खुशी मिली।

ऐसा है बुमराह का करियर

दाएं हाथ से गेंदबाजी करने वाले बुमराह अपनी सटीक यॉर्कर और कसी हुई गेंदबाजी के लिए जाने जाते हैं। वह बल्लेबाज को हावी होने का ज्यादा मौका नहीं देते। बुमराह के नाम 72 वनडे में 121, 30 टेस्ट में 128 और 60 टी20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में 70 विकेट दर्ज हैं। 27 रन देकर 6 विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन है।

 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *