IND vs BAN: जो खिलाड़ी खेलेंगे वनडे वर्ल्ड कप, उनकी मौजूदगी में ही हारी टीम इंडिया! जानें कहां हो रही चूक?

हाइलाइट्स

फुल स्ट्रेंथ टीम इंडिया ने बांग्लादेश के खिलाफ पहले वनडे में कहां चूक की?
रोहित, विराट, केएल राहुल और धवन की मौजूदगी में भी भारत क्यों हारा?

नई दिल्ली. बांग्लादेश दौरे पर टीम इंडिया की शुरुआत हार से हुई. क्रिकेट में हार-जीत होती रहती है. यह कोई नई बात नहीं है. लेकिन, टीम इंडिया जिस तरह से हारी, उस पर सवाल उठना लाजमी है. क्योंकि वनडे वर्ल्ड कप में अब 1 साल से कम का वक्त बचा है. टूर्नामेंट भारत में ही होना है. बांग्लादेश के खिलाफ वनडे सीरीज से भारत की वर्ल्ड कप की औपचारिक तैयारी भी शुरू हो गई. इस सीरीज के लिए चुनी गई भारतीय टीम को देखकर यह साफ नजर आ रहा है. क्योंकि रोहित शर्मा, विराट कोहली, केएल राहुल इस सीरीज में खेल रहे हैं. इनके अलावा शिखर धवन, श्रेयस अय्यर भी टीम का हिस्सा हैं. यह वो बल्लेबाज हैं, जिनका अगले साल वनडे विश्व कप में खेलना करीब-करीब तय है.

यानी बल्लेबाजी में तो हम कह ही सकते हैं कि भारत बांग्लादेश के खिलाफ फुल स्ट्रेंथ के साथ उतरा. लेकिन, फिर ऐसा क्या हो गया कि अपने से निचली रैंकिंग वाली बांग्लादेश टीम से भारत हार गया. वो भी तब, जब मीरपुर वनडे से पहले बांग्लादेश के कप्तान तमीम इकबाल चोटिल होने के कारण पूरी सीरीज से बाहर हो गए. वहीं, तेज गेंदबाज तस्कीन अहमद भी चोटिल होने के कारण पहला मैच नहीं खेले. इसके बावजूद रोहित की फुल स्ट्रेंथ टीम इंडिया हार गई. आखिर कहां टीम इंडिया चूकी? और किन गलतियों को उसे खामियाजा उठाना पड़ा. आइए इसे समझते हैं.

खराब टीम सेलेक्शन
बांग्लादेश के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए टीम सेलेक्शन ही समझ से परे है. क्योंकि इस दौरे से ठीक पहले भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड में 3 वनडे की सीरीज खेली. भारत यह सीरीज हार गया. लेकिन, बड़ी बात यह है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज खेलने वाले आधा दर्जन से ज्यादा खिलाड़ियों को बांग्लादेश के खिलाफ वनडे सीरीज की टीम में चुना ही नहीं गया. ऐसा क्यों किया गया, यह शायद ही किसी को समझ आए. न्यूजीलैंड में अच्छी बल्लेबाजी करने वाले शुभमन गिल, सूर्यकुमार यादव बांग्लादेश के खिलाफ वनडे सीरीज की टीम में ही नहीं है. सूर्यकुमार की ही अगर बात करें तो वो इस वक्त वो शानदार फॉर्म में हैं. कम से कम टी20 फॉर्मेट में तो उनका बल्ला गरज ही रहा है.

ऐसे में उन्हें यह कहकर बांग्लादेश दौरे की टीम के लिए नहीं चुना गया कि उन्हें आराम दिया गया है. लेकिन, सूर्यकुमार तो मैदान पर उतरने की तैयारी कर रहे हैं. वो मुंबई के लिए रणजी ट्रॉफी में खेलते नजर आएंगे. सवाल है, जब सूर्यकुमार को आराम मिला है तो फिर खेलना क्यों? और, अगर खेलना ही था तो फिर आराम की क्या जरूरत?

यह तो बात हो गई सूर्यकुमार की. बांग्लादेश के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव दोनों को नहीं चुना गया. जबकि यह दोनों न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में टीम का हिस्सा थे. हालांकि, चहल एक ही मैच में गेंदबाजी कर पाए और कुलदीप को एक मैच में भी खेलने का मौका नहीं मिला. अब यह समझ से परे कि जिन गेंदबाजों को न्यूजीलैंड में खेलने का मौका ही नहीं मिला. उन्हें बांग्लादेश दौरे पर क्यों नहीं परखा गया. वो भी तब, यह कुलदीप और चहल लिमिटेड ओवर क्रिकेट में टीम के सबसे अहम स्पिन गेंदबाज माने जाते हैं. इनका हालिया वनडे रिकॉर्ड भी इस बात का सबूत है.

” isDesktop=”true” id=”5003101″ >

चहल इस साल वनडे में भारत की तरफ से सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं. उन्होंने 14 मैच में 21 विकेट हासिल किए हैं. दूसरे सबसे अधिक विकेट लेने वाले स्पिन गेंदबाज कुलदीप हैं. उन्होंने इस साल 7 वनडे में 11 विकेट लिए हैं. इसके बावजूद इन दोनों स्पिन गेंदबाजों को बांग्लादेश दौरे की टीम में चुना ही नहीं गया. वो भी तब, जब वनडे विश्व कप में सालभर से कम का ही वक्त बचा है. ऐसे में आप अगर अपने सबसे अहम स्पिन गेंदबाज को नहीं खिला रहे, तो फिर तैयारी किस दिशा में जा रही, समझा जा सकता है.

वर्कलोड मैनेजमेंट का फायदा कम, नुकसान ज्यादा
बीते 1 साल में जब से रोहित शर्मा भारत के नए कप्तान बने हैं और राहुल द्रविड़ नए कोच, एक शब्द जो सबसे ज्यादा सुनने को मिला है, वो है वर्कलोड मैनेजमेंट. इस साल टी20 वर्ल्ड कप खेला गया. भारत ने भी इस टूर्नामेंट के लिए खूब तैयारी की. टी20 विश्व कप से पहले 30 से अधिक टी20 खेले. दो दर्जन से अधिक खिलाड़ी आजमाए और वर्कलोड मैनेजमेंट का हवाला देकर बार-बार विराट कोहली, रोहित शर्मा, केएल राहुल और बाकी सीनियर खिलाड़ी टीम से अंदर-बाहर होते रहे. हालांकि, टीम को इसका फायदा कम, नुकसान ज्यादा हुआ. द्विपक्षीय सीरीज में भारत ने भले ही अच्छा प्रदर्शन किया. लेकिन, टी20 विश्व कप और एशिया कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में भारत को हार का सामना करना पड़ा.

बांग्लादेश दौरे से पहले भी रोहित, विराट और केएल राहुल, हार्दिक पंड्या जैसे खिलाड़ियों को वर्कलोड मैनेजमेंट की वजह से ही न्यूजीलैंड के खिलाफ आराम दिया गया. हार्दिक तो टी20 सीरीज खेले. लेकिन, वनडे सीरीज का वो भी हिस्सा नहीं रहे. यानी टी20 विश्व कप के बाद रोहित, विराट और केएल राहुल जैसे खिलाड़ी सीधे बांग्लादेश में खेलने उतरे. मीरपुर वनडे में भारत की नई सलामी जोड़ी खेलने उतरी. न्यूजीलैंड के खिलाफ जहां शिखर धवन और शुभमन गिल ने वनडे में ओपनिंग की थी. तो वहीं, बांग्लादेश में धवन को रोहित के रूप में नया जोड़ीदार मिला. बार-बार सलामी जोड़ी बदलना और खिलाड़ी का आराम के नाम पर टीम से लगातार अंदर-बाहर होने का खामियाजा भारत को उठाना पड़ रहा है.

IND vs BAN: तो क्या ऋषभ पंत चोटिल नहीं हैं? इस कारण टीम इंडिया से खुद हुए अलग

सूर्यकुमार यादव टी20 और वनडे के बाद अब टेस्ट टीम में जगह बनाने में जुटे, उठाया बड़ा कदम

जडेजा-बुमराह की कमी भी भारत को खली

जसप्रीत बुमराह और रवींद्र जडेजा चोटिल होने की वजह से इस सीरीज का हिस्सा नहीं हैं. इन दोनों खिलाड़ियों की कमी भारत को खल रही है. टी20 विश्व कप में भी इसका असर दिखा था और बांग्लादेश के खिलाफ पहले वनडे में भी यह साफ नजर आया. भारत ने बांग्लादेश के 9 विकेट 136 रन के स्कोर पर गिरा दिए थे. तब जीत के लिए बांग्लादेश को 50 रन की दरकार थी. लेकिन, दीपक, चाहर, शार्दुल ठाकुर, मोहम्मद सिराज मिलकर भी वो एक विकेट नहीं ले पाए. यहां भारत को डेथ ओवर गेंदबाजी में बुमराह की कमी खली.

Tags: India vs Bangladesh, Rahul Dravid, Rohit sharma, Shikhar dhawan, Team india, Virat Kohli, Yuzvendra Chahal

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *