Himachal में सीएम को लेकर शुरू हुआ कांग्रेस का मंथन, होटल के बाहर प्रतिभा सिंह के समर्थकों की नारेबाजी

ANI

मुख्यमंत्री को लेकर विधायक दल की बैठक भी बुला ली गई है। इसके अलावा कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता हिमाचल प्रदेश में मौजूद हैं। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, राजीव शुक्ला, भूपेंद्र सिंह हुड्डा जैसे तमाम वरिष्ठ नेता फिलहाल शिमला में मौजूद हैं और मुख्यमंत्री के चेहरे पर मंथन जारी है।

हिमाचल प्रदेश कांग्रेस के लिए एक बड़ी राहत की खबर लेकर आया है। हाल में हुए चुनाव में यहां कांग्रेस को जीत मिली है। पिछले कई चुनाव में हार का सामना करने वाली कांग्रेस को हिमाचल की जनता ने पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने का मौका दिया है। लेकिन, यहां पर कांग्रेस के लिए परेशानी सीएम का चेहरा ही है। कांग्रेस चुनाव तो जीत गई है। लेकिन मुख्यमंत्री कौन बनेगा, इसको लेकर आप चर्चा तेज है। मुख्यमंत्री को लेकर विधायक दल की बैठक भी बुला ली गई है। इसके अलावा कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता हिमाचल प्रदेश में मौजूद हैं। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, राजीव शुक्ला, भूपेंद्र सिंह हुड्डा जैसे तमाम वरिष्ठ नेता फिलहाल शिमला में मौजूद हैं और मुख्यमंत्री के चेहरे पर मंथन जारी है। 

इन सबके बीच प्रतिभा सिंह के समर्थकों ने अब नारेबाजी शुरु कर दी है। प्रतिभा सिंह के समर्थक उन्हें लगातार मुख्यमंत्री बनाने की बात कह रहे हैं। जानकारी के मुताबिक के छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के काफिले को रोककर प्रतिभा सिंह के समर्थकों ने नारेबाजी की है। इससे पहले भी प्रतिभा सिंह मुख्यमंत्री के पद पर दांव ठोक चुकी हैं। उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि वीरभद्र सिंह के परिवार की उपेक्षा नहीं की जा सकती। आपको बता दें कि प्रतिभा सिंह फिलहाल हिमाचल प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। उन्हीं के नेतृत्व में पार्टी को जीत मिली है। प्रतिभा सिंह वीरभद्र सिंह की पत्नी हैं। वीरभद्र सिंह हिमाचल के वरिष्ठ नेता रहे हैं। 

हालंकि, प्रतिभा वीरभद्र सिंह ने किसी गुटबाजी से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि शाम को बैठक बुलाई गई है और उसमें मुख्यमंत्री के नाम पर चर्चा होगी। यहां गुटबाजी नहीं है। यहां किसी भी तरह की गुटबाजी नहीं है और हर कोई हमारे साथ है। उन्होंने कहा कि वे उनके (वीरभद्र सिंह) परिवार की उपेक्षा नहीं कर सकते। हम उनके नाम, चेहरे और काम पर जीते थे। ऐसा नहीं हो सकता कि आप उनके नाम, चेहरे और परिवार का उपयोग करें और किसी और को श्रेय दें। हाईकमान ऐसा नहीं करेगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह बड़ी जिम्मेदारी सोनिया गांधी ने दी थी और उन्होंने मुझसे कहा था कि वह मुझे राज्य प्रमुख के रूप में चुन रही हैं और मुझे सभी 68 निर्वाचन क्षेत्रों में जाना होगा और राज्य को जिताना होगा। मैंने वह ईमानदारी से किया और परिणाम हमारे सामने है। 

अन्य न्यूज़



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *