Eating Raw food reduced diabetes: क्या कच्चा भोजन करने से डायबिटीज और मोटापा खत्म हो जाता है, जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

हाइलाइट्स

रिसर्च में दावा किया जा रहा है कि कच्चा भोजन करने से डायबिटीज को पूरी तरह खत्म किया जा सकता है
पके हुए भोजन से कई तरह को पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं

Raw food reduced diabetes: खराब लाइफस्टाइल से संबंधित बेहद गंभीर बीमारी है डायबिटीज. डायबिटीज के कारण शरीर में कई अन्य बीमारियां पनपती हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक विश्व में करीब 42.2 करोड़ लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं. इसके साथ ही करीब 15 लाख लोगों की मौत हर साल प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से डायबिटीज के कारण होती है. चूंकि गलत खान-पान और खराब लाइफस्टाइल के कारण डायबिटीज की बीमारी होती है. इसलिए एक रिसर्च में दावा किया जा रहा है कि कच्चा भोजन करने से डायबिटीज को पूरी तरह खत्म किया जा सकता है. इतना ही नहीं, कच्चा भोजन मोटापा को भी कम करने में बेहद मददगार है. यही कारण है कि आजकल लोग डायबिटीज को खत्म करने के लिए वीगन डाइट या कच्चे भोजन की ओर रुख ज्यादा करने लगे हैं.

इसे भी पढ़ें- Menopause: डायबिटीज पीड़ित महिलाओं में समय से पहले मेनोपॉज होने का खतरा, ऐसे करें ब्लड शुगर कंट्रोल

प्रोसेस्ड फूड को थाली से हटाने का बेहतर विकल्प
पका हुआ या प्रोसेस्ड फूड में से कई तरह के पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं. इसका दुष्परिणाम यह है कि इसमें कई हानिकारिक रसायन भी मिल जाते हैं, इसलिए कच्चा भोजन या प्लांट बेस्ड भोजन बीमारियों को खत्म करने का बेहतर फॉर्मूला माना जाने लगा है. एचटी की खबर के मुताबिक कच्चे भोजन में सभी तरह के पोषक तत्व मौजूद होते हैं और इसमें मौजूद कई तरह के एंजाइम मोटापे को कम करने में सहायक है. लेकिन क्या कच्चे फूड से डायबिटीज को खत्म किया जा सकता है. स्डडी में दावा किया जा रहा है कि रॉ फूड से डायबिटीज को खत्म किया जा सकता है. कच्चे भोजन को हेल्दी माना जाता है. क्योंकि पका हुआ भोजन सॉल्ट और शुगर फ्री होता है. डायटीशियन गरिमा गोयल बताती हैं कि रॉ फूड या कच्चा फूड प्रोसेस्ड और अल्ट्रा प्रोसेस्ड फूड को अपनी थाली से हटाने का बेहतर विकल्प हो सकता है.

कई तरह से फायदेमंद है कच्चा फूड
गरिमा गोयल ने बताया कि आमतौर पर फूड को 40 से 48 डिग्री सेल्सियस पर पकाते हैं और तब खाते हैं. इसमें कई तरह को पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं. लेकिन वीगन डाइट, छाछ, किफिर, कॉम्बुचा जैसे खाद्य पदार्थों को पकाने की जरूरत नहीं है. उन्होंने बताया कि कच्चा फूड डायबिटीज मरीजों को कई तरह से फायदा पहुंचाता है. इसमें कोई जंक या प्रोसेस्ड चीजें नहीं होती. इसका सेवन कर कोई भी वजन को घटा सकता है. इस डाइट में न तो शुगर होती है और न ही सॉल्ट. इसलिए इस डाइट से ब्लड शुगर बढ़ने का खतरा टल जाता है. इसके अलावा रॉ फूड में डायट्री फाइबर होता है जो डाइजेस्टिव सिस्टम के लिए बेहतरीन होता है. इसका पाचन बहुत धीरे-धीरे होता है जिसके कारण अचानक कभी भी ब्लड शुगर बढ़ने का जोखिम नहीं रहता है. तो क्या कच्चा भोजन करके हम डायबिटीज को खत्म कर सकते हैं. गरिमा गोयल बताती है कि रॉ फूड निश्चित रूप से डायबिटीज को कम करने में मददगार साबित हो सकता है लेकिन एकमात्र रॉ फूड के सहारे हम डायबिटीज को पूरी तरह खत्म नहीं कर सकते. रॉ फूड एकमात्र समाधान नहीं हो सकता. इसके लिए कई तरह के कदम उठाने की आवश्यकता है.

रॉ फूड है क्या
आमतौर पर फ्रूट, सलाद, छाछ, भाप में पकी हरी सब्जी, बादाम, ड्राई फ्रूट, जूस, सूप, बीज आदि को रॉ फूड या कच्चा फूड माना जाता है. इन चीजों को मिक्स कर कई चीजें बनाई जाती है. जिसे अलग-अलग देशों या शहरों में अलग-अलग नाम से जाना जाता है.

Tags: Diabetes, Health, Health tips, Lifestyle, Trending news

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.