Chitrakoot News: भगवान राम के जन्म उत्सव पर 11 लाख दीपों से जगमगा उठा चित्रकूट, देखें Video

रिपोर्ट: धीरेन्द्र शुक्ला
चित्रकूट. भगवान श्रीराम की तपोस्थली चित्रकूट में रामनवमी धूमधाम के साथ मनाई गई. धार्मिक नगरी चित्रकूट में रामनवमी का पर्व चित्रकूट गौरव दिवस के रूप में मनाया गया. इस अवसर पर पूरे तीर्थ क्षेत्र शाम को लगभग 11 लाख दीपों से जगमगा उठा. घरों में भी लोगों ने दीप प्रज्ज्वलित कर प्रभु राम के जन्म की खुशियां मनाईं. जिलाधिकारी अभिषेक आनन्द ने मौका का मुआयना कर तैयारियों की समीक्षा की.

रामनवमी पर तीर्थ क्षेत्र के रामघाट, परिक्रमा मार्ग, भरतकूप, राम शैया आदि स्थानों पर पांच लाख और मध्य प्रदेश परिक्षेत्र में छह लाख दीप प्रज्ज्वलित किए गए. बता दें कि जिला प्रशासन कई दिनों से इस आयोजन की तैयारी में लगा था. जिलाधिकारी ने तैयारियों की समीक्षा कर अधिकारियों को इसके प्रति लोगों को प्रेरित करने के लिए निर्देशित किया था. उन्होंने लोगों से भी 11 दीप प्रज्ज्वलन करने के लिए अनुरोध किया था.

चित्रकूट में रामनवमी के दिन जले 11 लाख दीपक
मठ-मंदिर और अखाड़ों में 62 हजार, धर्मशाला व आश्रमों में 27,300, होटल व लॉज में 48,300, सभासद-सामाजिक कार्यकर्ताओं को 31,500, सामाजिक संगठनों को 12,600 तथा व्यापारियों को 40,000 दीप प्रज्ज्वलन का लक्ष्य दिया गया था. शाम को निर्धारित समय पर दीप प्रज्ज्वलन हुआ तो पूरा तीर्थक्षेत्र जगमगा उठा. इसके पूर्व जिलाधिकारी अभिषेक आनन्द ने गुरुवार को रामघाट तथा परिक्रमा मार्ग का औचक निरीक्षण कर दीपोत्सव कार्यक्रम की व्यवस्थाओं का जायजा लिया.

रघुवीर मंदिर में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़
रघुवीर मन्दिर (बड़ी गुफा) सद्गुरुदेव रणछोड़दास महाराज के आश्रम में रामनवमी का पर्व धूमधाम और हर्षोल्लास से मनाया गया. इस अवसर पर सुबह से ही मन्दिर में दर्शनार्थियों का तांता लगने लगा. सुबह श्री रामचरितमानस का नवाह्न पारायण पाठ सम्पन्न हुआ. मन्दिर प्रांगण में बधाई गीत गाए गए. पुष्पों की होली खेली गई. ठीक दोपहर 12 बजे शंख, घण्टे और घड़ियाल ढोल नगाड़ों एवं वेद मंत्रोच्चार के स्वर के बीच मन्दिर के कपाट पुजारी द्वारा खोले गए एवं भगवान श्रीराम का जन्म हुआ. सभी ने भए प्रकट कृपाला दीन दयाला… गाया. एक दूसरे को राम जन्म की बधाई दी.

तुलसी तीर्थ में निकली शोभायात्रा
राजापुर में तुलसी जन्मकुटीर मानस मन्दिर के प्रांगण में यज्ञ अनुष्ठान, पूजा अर्चना कार्यक्रम वेदमन्त्रों के साथ किया गया. इस मौके पर भगवान राम की शोभायात्रा निकाली गई. शोभायात्रा तुलसी जन्मकुटीर से सब्जी मण्डी, तुलसी स्मारक रोड, तुलसी चौक होते हुए हनुमान मन्दिर पहुंची, जहां विधिवत् पूजा अर्चना की गई. शोभायात्रा के पहले सुनील मिश्रा ने पूजा अर्चना की. इसमें शामिल झांकियां आकर्षण का केंद्र रहीं.

भगवान राम हमारी सनातन भारतीय संस्कृति…
समापन अवसर पर उप जिलाधिकारी प्रमोद झा ने कहा कि भगवान राम हमारी सनातन भारतीय संस्कृति के नैतिक मूल्यों और आचार विचार के सर्वोच्च मापदण्ड हैं. इसके बिना भारतीय समाज के आदर्श की कल्पना भी नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि शाम सात बजे तुलसी मानस मंदिर तुलसी जन्म कुटीर मां कालिंद्री के तट पर और कस्बे के द्वादश मंदिरों तथा ग्रामीण क्षेत्रों में 11,000 दीप प्रज्वलित किए गए.

Tags: Chitrakoot News, Lord Ram

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *