Bypoll: मैनपुरी में शाक्य और खतौली में सैनी पर दांव लगाने की तैयारी में भाजपा, केंद्रीय नेतृत्व को भेजा गया नामों का पैनल

BJP prepared three names panel for bypoll on Three seats.

– फोटो : Social Media

ख़बर सुनें

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के निधन से खाली हुई मैनपुरी लोकसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव में भाजपा शाक्य प्रत्याशी पर दांव लगा सकती है। वहीं भाजपा विधायक विक्रम सिंह सैनी को दो वर्ष की सजा से खाली हुई मुजफ्फरनगर की खतौली विधानसभा सीट पर सैनी वोट बैंक को साधने के लिए सैनी प्रत्याशी को ही उतारा जा सकता है। तो रामपुर में सपा के पूर्व विधायक आजम खां के खिलाफ संघर्ष करने वाले आकाश सक्सेना को फिर उम्मीदवार बनाया जा सकता है।

सीएम आवास पर शनिवार शाम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी की अध्यक्षता में पार्टी की कोर कमेटी की बैठक में तीनों सीटों पर उपचुनाव में प्रत्याशियों का पैनल पर मुहर लगाई गई। इस दौरान मैनपुरी में शाक्य समाज के प्रत्याशी को चुनाव लड़ाने पर मंथन हुआ। बैठक में सपा छोड़कर भाजपा में शामिल हुए पूर्व सांसद रघुराज शाक्य, ममतेश शाक्य, प्रेम पाल और सतीश पाल के नाम पर मंथन हुआ। वहीं पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह, मैनपुरी जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष नरेंद्र सिंह राठौर के नाम पर भी चर्चा हुई।

सूत्रों के मुताबिक रामपुर उपचुनाव में भाजपा के आकाश सक्सेना टिकट के प्रबल दावेदार हैं। अभय गुप्ता और भारत भूषण गुप्ता का नाम भी पैनल में शामिल है। उधर, खतौली से पूर्व विधायक विक्रम सिंह सैनी की पत्नी राजकुमारी सैनी, सुधीर सैनी, रुपेंद्र सैनी और प्रदीप सैनी के नाम पर मंथन हुआ। बैठक में प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह और प्रदेश महामंत्री संगठन धर्मपाल सिंह भी मौजूद थे। सूत्रों के मुताबिक प्रत्येक सीट से तीन-तीन उम्मीदवार के नाम तय करने के बाद पैनल केंद्रीय नेतृत्व को भेज दिया गया। केंद्रीय नेतृत्व रविवार शाम या सोमवार दोपहर तक प्रत्याशियों की घोषणा कर सकता है।

चुनावी रणनीति पर भी हुआ मंथन
तीनों सीटों पर हो रहे उप चुनाव में भाजपा प्रत्याशियों के नामांकन की सभा में सरकार के उप मुख्यमंत्री व मंत्री शामिल होंगे। तीनों क्षेत्रों में मुख्यमंत्री भी सभाएं और रैलियां करेंगे। वहीं सरकार के सभी मंत्रियों को बारी-बारी से तीनों क्षेत्रों में वार्ड की चुनावी सभा से लेकर बैठकों के लिए तैनात किया जाएगा। पार्टी के फीडबैक के आधार पर सरकार उप चुनाव की राह में आने वाले कील-कांटे दुरुस्त करेगी। सूत्रों के मुताबिक सरकार और संगठन उप चुनाव में मैनपुरी और रामपुर में सपा के गढ़ भेदने के साथ खतौली में कब्जा बरकरार रखने के लिए आश्वस्त है।

विस्तार

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के निधन से खाली हुई मैनपुरी लोकसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव में भाजपा शाक्य प्रत्याशी पर दांव लगा सकती है। वहीं भाजपा विधायक विक्रम सिंह सैनी को दो वर्ष की सजा से खाली हुई मुजफ्फरनगर की खतौली विधानसभा सीट पर सैनी वोट बैंक को साधने के लिए सैनी प्रत्याशी को ही उतारा जा सकता है। तो रामपुर में सपा के पूर्व विधायक आजम खां के खिलाफ संघर्ष करने वाले आकाश सक्सेना को फिर उम्मीदवार बनाया जा सकता है।

सीएम आवास पर शनिवार शाम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी की अध्यक्षता में पार्टी की कोर कमेटी की बैठक में तीनों सीटों पर उपचुनाव में प्रत्याशियों का पैनल पर मुहर लगाई गई। इस दौरान मैनपुरी में शाक्य समाज के प्रत्याशी को चुनाव लड़ाने पर मंथन हुआ। बैठक में सपा छोड़कर भाजपा में शामिल हुए पूर्व सांसद रघुराज शाक्य, ममतेश शाक्य, प्रेम पाल और सतीश पाल के नाम पर मंथन हुआ। वहीं पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह, मैनपुरी जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष नरेंद्र सिंह राठौर के नाम पर भी चर्चा हुई।

सूत्रों के मुताबिक रामपुर उपचुनाव में भाजपा के आकाश सक्सेना टिकट के प्रबल दावेदार हैं। अभय गुप्ता और भारत भूषण गुप्ता का नाम भी पैनल में शामिल है। उधर, खतौली से पूर्व विधायक विक्रम सिंह सैनी की पत्नी राजकुमारी सैनी, सुधीर सैनी, रुपेंद्र सैनी और प्रदीप सैनी के नाम पर मंथन हुआ। बैठक में प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह और प्रदेश महामंत्री संगठन धर्मपाल सिंह भी मौजूद थे। सूत्रों के मुताबिक प्रत्येक सीट से तीन-तीन उम्मीदवार के नाम तय करने के बाद पैनल केंद्रीय नेतृत्व को भेज दिया गया। केंद्रीय नेतृत्व रविवार शाम या सोमवार दोपहर तक प्रत्याशियों की घोषणा कर सकता है।

चुनावी रणनीति पर भी हुआ मंथन

तीनों सीटों पर हो रहे उप चुनाव में भाजपा प्रत्याशियों के नामांकन की सभा में सरकार के उप मुख्यमंत्री व मंत्री शामिल होंगे। तीनों क्षेत्रों में मुख्यमंत्री भी सभाएं और रैलियां करेंगे। वहीं सरकार के सभी मंत्रियों को बारी-बारी से तीनों क्षेत्रों में वार्ड की चुनावी सभा से लेकर बैठकों के लिए तैनात किया जाएगा। पार्टी के फीडबैक के आधार पर सरकार उप चुनाव की राह में आने वाले कील-कांटे दुरुस्त करेगी। सूत्रों के मुताबिक सरकार और संगठन उप चुनाव में मैनपुरी और रामपुर में सपा के गढ़ भेदने के साथ खतौली में कब्जा बरकरार रखने के लिए आश्वस्त है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.