AI Robot: ब्रिटिश संसद में बोलते-बोलते ह्यूमनाइड रोबोट के साथ हुआ कुछ ऐसा कि उड़ गए सभी के होश, रिबूट करने पर हुई सही

AI-DA Robot Specification: दुनिया के लिए रोबोट अब नई चीज नहीं है. इसके कई रूप दुनिया के सामने आ चुके हैं. ये रोबोट लोगों को हैरान भी करते हैं. ब्रिटेन की संसद में मंगलवार को रोबोट की वजह से कुछ देर के लिए अजीबोगरीब स्थिति बन गई. दरअसल, यहां एक विशेष मेहमान आई थी जो रोबोट ही थी और वह ब्रिटिश सांसदों को विज्ञान की दुनिया की अनूठी क्रांति आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर संबोधित कर रही थी. पर बीच में ऐसा कुछ हुआ जिससे अजीबोगरीब स्थिति बन गई. दरअसल, इस रोबोट को मेजबानों से बात करते-करते नींद आ गई थी. नींद आने की वजह से उसकी आंखें डरावनी जॉम्बी जैसी हो गईं. हालांकि इस तकनीकी खामी को फौरन ठीक कर लिया गया.

ब्रिटेन के कार्यक्रम में लाई गई थी रोबोट, सांसदों ने पूछे सवाल

रिपोर्ट के मुताबिक, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने इंसानों जैसी दिखने वाली एक रोबोट तैयार की है. इसे AI-DA नाम दिया गया है. इसका नाम ब्रिटेन के गणितज्ञ एडा लवलेस के नाम पर रखा गया है. इस रोबोट को दुनिया का पहला अल्ट्रा रियलिस्टिक आर्टिफिशियल ह्युमनाइड रोबोट आर्टिस्ट कहा जाता है. जब इसे संसद में लाया गया तो उससे सांसदों ने पूछा कि क्या आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्रिएटिव इंडस्ट्री के लिए कोई खतरा पैदा कर रहा है?

जवाब देते-देते अचानक रोबोट में आ गई दिक्कत

इस रोबोट ने ब्रिटिश संसद को संबोधित करते हुए कहा ‘मैं कम्प्यूटर प्रोग्राम और एलगोरिद्म से चलती हूं और कलात्मक चीजें बना सकती हूं.’ यह कहते-कहते अचानक रोबोट में तकनीकी खामी आ गई और उसकी आंखें तिरछी हो गई. कुछ ही देर में रोबोट का चेहरा जॉम्बी जैसा हो गया. यह देख इसे बनाने वाले एडेन मेलर ने इसे रीबूट किया. इसे चश्मा पहनाया और आगे का कार्यक्रम चालू कराया.

दोबारा में रोबोट ने बताई अपनी खासियत

हाउस ऑफ लॉर्ड्स कम्यूनिकेशन एंड डिजिटल कमेटी ने AI-DA से पूछा कि तुम कलात्मक कृतियां कैसे बनाती हो और इंसानों द्वारा बनाई गई चीजों से ये कैसे अलग है? इस पर AI-DA ने कहा, ‘मैं अपनी आंखों में लगे कैमरे से, अपने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और रोबोटिक ऑर्म्स से कैनवस पर पेंटिंग कर सकती हूं, ये तस्वीरें काफी आकर्षक होती हैं. हालांकि मुझे इन चीजों का सब्जेक्टिव एक्सपीरियंस नहीं है इसलिए मैं इसे बनाने के लिए कम्प्यूटर प्रोग्राम्स और एलगोरिद्म पर निर्भर हूं, लेकिन मैं कलात्मक चीजे बना सकती हूं.’  

ये स्टोरी आपने पढ़ी देश की सर्वश्रेष्ठ हिंदी वेबसाइट Zeenews.com/Hindi पर



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.