786 के साथ ही इनके पास है खास नंबर की भारतीय करेंसी का जोरदार कलेक्शन, ऑक्शन की प्लानिंग, जानें डिटेल

निशा राठौड/ उदयपुर. शौक सबसे बड़ी चीज है और शोक भी ऐसा जिसमे भारतीय करेंसी का संग्रहण करना हो तो बहुत मुश्किल हो जाता है. कहावत है कि रुपए जो जितना बचाने को कोशिश करो वह उतना ही हाथों से फिसलता जाता है, लेकिन उदयपुर शहर के एक संग्रहण करता ऐसे भी हैं. इन्होंने आजादी के पूर्व के नोट से लगाकर आज तक के जारी सभी नोट का संग्रहण किया हुआ है. हम बात कर रहे हैं उदयपुर के डॉक्टर विनय भाणावत की.

भाणावत ने अपने कलेक्शन में एक रुपए के आजादी के पूर्व के नोटों से अपना कलेक्शन शुरू किया है. इस पर गांधीजी नहीं बल्कि ब्रिटिश गवर्नर की तस्वीर नजर आती है. इसके साथ ही आजादी के बाद छपने वाले सभी भारतीय नोट का कलेक्शन भी आप को डॉक्टर भाणावत के यहां देखने को मिल जायेगा.

786 नम्बर का खास कलेक्शन
भाणावत का शौक अब अब उनका जनून भी बना गया है, उनके यहा 786 नबर की नोटो का भी कलेक्शन मौजूद है. जिसमे एक से दो हजार तक के नोट शामिल है. जिनका सीरियल नबर 786 है. भाणावत अपने नाम करीब 54 विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर चुके हैं, जो कि उन्हें इस कलेक्शन के दौरान अलग अलग श्रेणी में दिए गए. भाणावत ने बताया कि उन्होंने करीब 45 वर्ष से इस कलेक्शन को करना शुरू किया है, जिसे वे विरासत के रूप के संजोना चाहते हैं. उनके पास सिक्के और स्टैम्प का भी कलेक्शन मौजूद है, जिसमे भी उन्होंने विश्व रिकॉर्ड बनाया है.

डॉक्टर भाणावत के पास फैसी नबर की सीरीज का भी कलेक्शन है, जिसमें 1 से 1000, 1हजार से एक लाख, एक लाख से 10 लाख के नबरों का भी विशेष कलेक्शन है. भाणावत के इसी कलेक्शन की वजह से उन्हें करंसी मैन के रूप में भी जाना जाने लगा है.

विनय भाणावत के पुत्र धीरज भाणावत ने बताया की उनके पिता के एक विशाल नोटों सिक्कों और स्टैम्प का कलेक्शन किया है, इसे विरासत के रूप में हम संजोने का प्रयास करेंगे. उन्होंने बताया कि 786 सीरीज का कलेक्शन की सीरीज का प्रधानमंत्री के द्वारा ऑक्शन कराने का विचार उन्होंने किया है. इससे जो राशि प्राप्त होगी, उसे भारतीय सेना को सौप जायेगा. साथ ही उनका कहना है कि उनके पिता के इस 786 कलेक्शन में 1 रुपए का नोट नहीं था. वह नॉट उन्होंने इंग्लैंड की एक ऑक्शन कम्पनी के 27 हजार रुपये में खरीदा था.

Tags: Rajasthan news, Udaipur news

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.