4 हजार करोड़ के जयविलास पैलेस में अमित शाह का होगा शाही स्वागत, चांदी की ट्रेन परोसेगी खाना

पटग्वालियर. राजशाही से लेकर लोकशाही के हर दौर में रियासत और सियासत का पावर सेंटर रहा सिंधिया राजवंश का जयविलास पैलेस एक बार फिर सुर्खियों में है. रविवार की शाम जयविलास पैलेस में BJP के शाह यहां मेहमान बनकर आ रहे हैं. उनका शाही अंदाज में स्वागत किया जा रहा है. देश के गृहमंत्री अमित शाह सिंधिया राजवंश के जयविलास पैलेसे में आएंगे. सोने से जड़े दरबार हॉल में शाही भोज होगा. डायनिंग टेबल पर चांदी की ट्रेन से उन्हें भोजन परोसा जाएगा. अमित शाह महल में मराठों के गौरवशाली इतिहास की  गैलरी का लोकार्पण भी करेंगे. News18 आपको बताने जा रहा है, आखिर क्यों है। जयविलास पैलेस खास.

गृहमंत्री अमित शाह आज मध्यप्रदेश के दौरे पर रहेंगे. भोपाल और ग्वालियर में उनके कार्यक्रम हैं. ग्वालियर दौरे की खास बात यह है कि वे केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के बुलावे पर पहली बार जयविलास पैलेस भी जाएंगे. शाह के दौरे को लेकर सिंधिया काफी सक्रिय नजर आ रहे हैं. सिंधिया अभी से महल में मौजूद हैं. और खुद हर तैयारी की मॉनिटरिंग कर रहे हैं. 400 कमरे वाले जय विलास पैलेस में अमित शाह सोने से जड़े दरबार हाल को देखेंगे. वहीं डायनिंग टेबल पर शाही भोज के दौरान ऐतिहासिक चांदी की ट्रेन शाह को भोजन परोसेगी.

148 साल पुराना जयविलास पैलेस
केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर में 4 हजार करोड़ रुपये की कीमत के जयविलास पैलेस में अपनी पत्नी प्रियदर्शनी, बेटे महान आर्यमन और बेटी के साथ रहते हैं. सिंधिया राजवंश के शासक जयाजी राव सिंधिया ने सन 1874  में जय विलास पैलेस बनवाया था. फ्रांसीसी आर्किटेक्ट सर माइकल फिलोस ने इस महल को डिजाइन किया था. 12 लाख 40 हजार 771 वर्ग फीट में फैले जयविलास में चार सौ कमरे हैं. 1874 में जयविलास के निर्माण में एक करोड़ रुपए खर्च हुआ था. विदेशी कारीगरों की मदद से  जय विलास महल को बनाने में 12 साल का समय लगा था. जयविलास पैलेस में साल 1964 में म्यूजियम शुरू हुआ.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

दिल्ली-एनसीआर

दिल्ली-एनसीआर

ये भी पढ़ें- गोविंद सिंह का दावा : सिंधिया के साथ बीजेपी में गए विधायक मेरे संपर्क में, कांग्रेस में लौटना चाहते हैं

सोने से बना दरबार हॉल, दुनिया का सबसे वजनी झूमर
दूसरी मंजिल पर बना दरबार हॉल जयविलास महल की शान कहा जाता है. हॉल की दीवारों और छत को पूरी तरह सोने-हीरे-जवाहरात से सजाया गया था. इस पर दुनिया का सबसे ज्यादा वजनी झूमर लगाया गया है. साढ़े तीन हजार किलो के झूमर को लटकाने से पहले कारीगरों ने छत की मजबूती को परखा. इसके लिए छत के ऊपर नौ से दस हाथियों को खड़ा किया था. 10 दिन तक छत पर हाथी चहलकदमी करते रहे. जब छत मजबूत होने का भरोसा हो गया, तब फ्रांस के कारीगरों ने इस झूमर को छत पर लटकाया. रिसायत कालीन दौर में जब भी कोई राजप्रमुख या बड़ी शख्सियत ग्वालियर आते थे तो उनका खास स्वागत दरबार हॉल में ही किया जाता था.

महल का ब्यौरा
– 400 कमरे वाला है यह भव्य महल
– यह महल कुल एक करोड़ रुपए में निर्मित किया गया था. आज चार हजार करोड़ से ज्यादा की कीमत है.
– सोने से जड़ा दरबार हॉल, सिंधिया राजाओं के वैभव की पहचान
-3500 किलो वजनी दुनिया का सबसे भारी झूमर लगा
– यहीं पर डाइनिंग टेबल पर शाही भोज के दौरान खाना लेकर चलने वाली चांदी की ट्रेन है.
– यूरोपीय वास्तुकला का खूबसूरत नमूना है यह.
– यह पैलेस सर माइकल फिलोस ने डिजाइन और निर्मित किया था.
– इसी महल में इनडोर स्विमिंग पूल है।
– इसके एक हिस्से में राजमाता सिंधिया ने संग्रहालय बनवाया था.
– तत्कालीन राष्ट्रपति डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने उद्घाटन किया था।
– कई बड़ी राजनीतिक हस्तियां, इसे देखने आयीं. अब अमित शाह आ रहे हैं.

मराठा गैलरी का लोकार्पण करेंगे शाह
अमित शाह की मेहमान नवाज़ी के लिए जय विलास को खास तौर पर सजाया गया है. अमित शाह जय विलास महल में मराठों और सिंधिया की शौर्यगाथा दिखाने वाली एक गैलरी का लोकार्पण भी करेंगे. इसमे शिवाजी से लेकर महादजी सिंधिया, माधवराव और जीवाजी राव की देश के लिए लड़ी गई लड़ाइयों और सेवा को दिखाया गया है. बहरहाल अमित शाह के दौरे को लेकर ज्योतिरादित्य सिंधिया तीन दिन से ग्वालियर में ही हैं. कल  अमित शाह कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे. सबसे खास बात यह है कि अमित शाह सिंधिया के बुलावे पर जयविलास पैलेस आ रहे हैं. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा जयविलास में अमित शाह करीब डेढ़ घंटे का वक्त बिताएंगे. सिंधिया ने कहा कि मुझे विश्वास है कि गृहमंत्री के दौरे के बाद ग्वालियर का विकास नई ऊंचाइयों को छुएगा.

Tags: Gwalior news, Madhya pradesh news

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *