सांप दिखे या फिर काट लें तो क्या करना चाहिए – बता रहे हैं बालाघाट के सर्पमित्र ललित मेश्राम

हाइलाइट्स

सांप पकड़ने के साथ ही ललित मेश्राम ग्रामीणों और स्कूली छात्रों को जागरूक भी करते हैं.
जनवरी 2022 से अब तक लगभग 200 सांपों का रेस्क्यू कर चुके हैं वनरक्षक ललित मेश्राम.
सांप डंसता है तो पीड़ित को तुरंत अस्पताल ले जाएं. झाड़ृ-फूंक और अंधविश्वास में न पड़ें.

रिपोर्ट : चितरंजन नेकर

बालाघाट. जीवन में जब मित्र सर्प बन जाए, जो जीना मुश्किल हो जाता है. लेकिन आप अगर सर्पों के मित्र बन जाएं तो सांपों का जीवन तो बचता ही बचता है, आपके जीने को भी एक अर्थ मिल जाता है और उससे दूसरे लोग भी प्रेरणा पाते हैं. यह बात बालाघाट के ललित मेश्राम को देखकर कही जा सकती है. बता दें कि ललित मेश्राम बालाघाट इलाके में सर्पमित्र के रूप में पहचाने जाते हैं. मंगलवार को सर्पमित्र और वनरक्षक ललित मेश्राम ने ग्रामीणों और दुर्गम इलाकों में रहनेवाले लोगों को सांपों से जुड़ी अहम जानकारियां दीं.

इस मौके पर ललित मेश्राम ने बताया कि सांपों से भयभीत होने की जरूरत नहीं और उनका रेस्क्यू करना आसान काम है. सिर्फ इस काम में सतर्कता की दरकार है. उन्होंने बताया कि सांप प्रकृति के संतुलन के लिए प्रमुख जीव है. सांपों को मरना नहीं चाहिए. सांपों को मारने की वजह से इसकी कई प्रजातियां तेजी से खत्म होते जा रही हैं.

आदिवासी इलाकों में सांपों का आतंक

बालाघाट जिले के आदिवासी बहुल क्षेत्रों में ग्रामीणों को अक्सर जहरीले सांपों की वजह से परेशानी का सामना करना पड़ता है. ऐसे में ग्रामीण सांपों को मार डालते है. इस वजह से इस इलाके में सांपों की प्रजाति भी तेजी से खत्म होते जा रही है. सांपों की प्रजाति को खत्म होने से बचाने और जहरीले सांप पकड़ कर लोगों को जागरूक करने का कार्य वनरक्षक ललित मेश्राम लगातार कर रहे हैं.

जागरूकता फैलाने की कोशिश

सांप पकड़ने के साथ ही वनरक्षक ललित मेश्राम ग्रामीणों और स्कूली छात्रों को जागरूक भी करते हैं. उन्होंने बताया कि सांप भी हमारी प्रकृति के संतुलन के लिए बेहद महत्त्वपूर्ण जीव हैं. इसलिए सांपों को न मारने का संदेश वे लगातार देते हैं. वनरक्षक ललित मेश्राम ने ग्रामीणों और बच्चों जागरूक करते हुए सांपों को लेकर अंधविश्वास न पालने की सलाह भी दी.

सांप काटने का इलाज झाड़ फूंक नहीं

ललित मेश्राम की मानें तो उन्होंने अभी तक सैकड़ों सांपों का रेस्क्यू किया है. इनमें कुछ कम जहरीले तो कुछ खतरनाक सांप भी रहे हैं. ललित ने लोगों से अनुरोध किया है यदि सांप किसी को डंसता है तो तुरंत उसे अस्पताल पहुंचाएं. किसी प्रकार की झाड़ृ-फूंक और अंधविश्वास में न रहें. घर में सांप मौजूद है, तो उसे मारे नहीं, उस पर नजर रखें और तुरंत इसकी सूचना वन विभाग को दे या सर्पमित्र को दें, ताकि उसका रेस्क्यू करके सुरक्षित जंगल में छोड़ा जाए. ललित मेश्राम, जनवरी 2022 से अब तक लगभग 200 सांपों का रेस्क्यू कर चुके हैं.

Tags: Balaghat S12p15, Mp news, Snake rescue operation

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.