शोर ना हो इसलिए हाथ में रखते थे चप्पल, 250 कैमरों की मदद से पकड़ा गया शातिर चोरों का गैंग

हाइलाइट्स

इस गैंग ने पूछताछ में अभी तक 24 से ज्यादा चोरी और डकैती की वारदात करना कबूला है.
भोपाल पुलिस को लंबे अरसे से इस गैंग की तलाश थी
ये गैंग भोपाल शहर की बॉर्डर लाइन कॉलोनियों को अपना निशाना बनाता था

भोपाल. भोपाल पुलिस की साइबर क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे गैंग का खुलासा किया है जो चोरी के दौरान शोर ना हो, इस वजह से अपने चप्पल को हाथ में रखकर वारदात को अंजाम देते थे. क्राइम ब्रांच ने 250 सीसीटीवी कैमरों के फुटेज के आधार पर गैंग के चार सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है. यह गैंग भोपाल में दो साल से सक्रिय है. इस गैंग के सदस्यों ने पूछताछ में अभी तक 24 से ज्यादा चोरी और डकैती की वारदात करना कबूला है.

भोपाल के इन इलाकों को बना चुके थे निशाना

पुलिस पूछताछ में गिरफ्त में आए गैंग के चार आरोपियों ने कोलार, बागसेवनिया, कटारा हिल्स और  मिसरोद इलाके में दो दर्जन से अधिक चोरी की घटनाएं करना स्वीकार किया है. आरोपी शहर की सीमा की आउटर कॉलोनियों में रेकी करते थे. सभी आरोपी धार के रहने वाले हैं. भोपाल से पहले इंदौर में गैंग ने कई चोरी की वारदातों को अंजाम दिया था.

आपके शहर से (भोपाल)

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश

250 कैमरों की मदद से पकड़े गए शातिर

जिन इलाकों में चोरी हुई वहां के भोपाल साइबर क्राइम ब्रांच की टीम ने सीसीटीवी कैमरे को खंगाला. पुलिस की टीम ने 250 कैमरों के फुटेज के आधार पर एक रोडमैप तैयार किया और इसी से आरोपियों का सुराग लगा. पुलिस में धार निवासी आरोपी भंग्गु उर्फ भंगिया डाबर, पार सिंह उर्फ पारश अलावा, संतोष भंवर और निहाल सिंह देवकर को पकड़ा. उनके पास से चोरी, डकैती करने में उपयोग किये जाने वाले औजार बरामद हुए. चारों आरोपियों ने पूछताछ में थाना कोलार क्षेत्र में 09, थाना मिसरोद क्षेत्र में 09, थाना बागसेवनिया क्षेत्र में 05, थाना कटारा हिल्स क्षेत्र में एक वारदात करना कबूला. रिमांड पर लेकर आरोपियों से पूछताछ जारी है

चप्पल गैंग का इतिहास

गैंग के सदस्य काम करने का बहाना बनाकर कॉलोनी के सूने घरों में रेकी करते थे. आरोपियों के निशाने में सुनसान इलाके में मौजूद कॉलोनी के घर रहते थे. आरोपी चोरी की वारदात को अंजाम देने से पहले अपनी बाइक को आसपास के इलाकों में छिपा देते थे. सीसीटीवी फुटेज में आरोपियों की पूरी हरकत कैद हुई है. आरोपी किसी भी घर या फ्लैट में घुसने से पहले अपनी चप्पल हाथ में लेते थे, इसके पीछे की वजह पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि हाथ में चप्पल लेने से पैदल चलने के दौरान शोर नहीं होता है. इस मामले में फरार आरोपी कीलू उर्फ कैलाश, रमेश चौहान उर्फ नाना, गौरव जैन फरार हैं.

Tags: Bhopal news, Crime News, Mp news

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *