रूस छोड़कर भागने वाले हैं पुतिन? क्या है राष्ट्रपति के पलायन से जुड़ा ऑपरेशन Noah’s Ark

ANI

राजनीतिक सलाहकार और पुतिन के पूर्व-भाषण लेखक ने एक टेलीग्राम पोस्ट में दावा किया है कि क्रेमलिन ने एक बैकअप योजना पर काम करना शुरू कर दिया है। जिसे अनाधिकृत रूप से “Noah’s Ark” करार दिया गया।

चाहे कितना भी बड़ा तानाशाह क्यों न हो, जब उसके खिलाफ बगावत होती है। जब उसी के मुल्क के लोग उसके खिलाफ में खड़े हो जाते हैं। फिर तो सत्ता क्या देश ही छोड़ने की नौबत आ जाती है। अपनों के विरोध से  बचने के लिए दूसरे मुल्क में पनाह लेनी पड़ सकती है। लेकिन क्या आप सोच सकते हैं कि रूस के राष्ट्रपति पुतिन के साथ भी कुछ ऐसा हो सकता है। लेकिन पुतिन के ही एक करीबी ने दावा कर दिया है कि रूसी राष्ट्रपति ने क्रेमलिन से एग्जिट का प्लान तैयार कर लिया है। अपने परिवार और करीबियों के साथ पुतिन देश छोड़ सकते हैं। ऐसे में तमाम तरह की बातें होने लगी है कि क्या वाकई में यूक्रेन युद्ध पुतिन के गले की हड्डी बन चुका है। पुतिन पूरे परिवार के साथ आखिर कहां पलायन करने वाले हैं?

राजनीतिक सलाहकार और पुतिन के पूर्व-भाषण लेखक ने एक टेलीग्राम पोस्ट में दावा किया है कि क्रेमलिन ने एक बैकअप योजना पर काम करना शुरू कर दिया है। जिसे अनाधिकृत रूप से “Noah’s Ark” करार दिया गया। गैल्यामोव ने अपनी जानकारी के लिए अनाम अंदरूनी सूत्रों का हवाला दिया। उन्होंने कहा है कि रूस में बदले विरोध के चलते पुतिन साउथ अमेरिका में पनाह ले सकते हैं। गैल्यामोव ने 2010 से पुतिन के लिए काम नहीं किया है और खुद रूस से निर्वासन में रह रहे हैं। उन्होंने निकासी को अत्यधिक आकस्मिक योजना के रूप में तैयार किया।

गौरतलब है कि 289 दिन पहले पुतिन की ब्रिगेड पूरी तैयारी और प्लानिंग के साथ यूक्रेन के बैटल ग्राउंड में उतरी थी। मकसद यूक्रेन पर कब्जा करना और उसे तबाह करना था। लेकिन ऐसा हो न सका। यूक्रेन से अदने से मुल्क ने रूस का डटकर सामना किया। पुतिन की यही नाकामी उनके लिए बड़ी मुसीबत बन सकती है। पुतिन के पूर्व स्पीच राइटर के दावों ने इन अटकलों को हवा दी है। गैल्यामोव की गिनती किसी जमाने में पुतिन के करीबी में होती थी। उनके दावे अनुसार पुतिन वेनेजुएला को अपना अगला ठिकाना बना सकते हैं। 

अन्य न्यूज़



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *