यूपीः दूसरे चरण में भी जेवर के किसानों से आपसी सहमति पर जमीन अधिग्रहित करेगी योगी सरकार

यूपीः दूसरे चरण में भी जेवर के किसानों से आपसी सहमति पर जमीन अधिग्रहित करेगी योगी सरकार

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शाम को सरकारी आवास पर आयोजित नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के द्वितीय चरण में भूमि अधिग्रहण से प्रभावित किसानों से संवाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जेवर के किसानों को बड़ी सौगात दी है। उन्होंने एक बार फिर आपसी सहमति पर किसानों से उनकी जमीन का मुआवजे देना का आश्वासन दिया। सीएम योगी ने जैसे ही यह ऐलान किया कार्यक्रम में मौजूद किसान खुशी से झूम उठे और हर हर महादेव का नारा लगाने लगे। जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह की अगुवाई में लगभग 200 किसान मुख्यमंत्री आवास आए थे।

इस दौरान उन्होंने कहा कि जेवर के किसान खुशहाल रहें हमारा यही प्रयास है। उन्होंने कहा कि यहां से विस्थापित होने वाले किसानों को जहां वह चाहते हैं वहीं बसाया जाए। साथ ही वहां धार्मिक स्थल, स्कूल, कॉलेज, खेल मैदान, ओपन जिम, मार्केट की व्यवस्था हो। इससे वहां के लोग अपने सपनों को साकार कर सकेंगे और विकास की परियोजनाओं में बढ़चढ़कर सहयोग करेंगे। साथ ही अगर एक परिवार में दो, तीन, चार या उससे अधिक भाई हों तो उन्हें एक ही जगह बसाया जाए। सीएम योगी ने कहा कि जेवर के बच्चों को रोजगार मिले इसके लिए वहां स्किल डेवलपमेंट सेंटर स्थापित किया जाए। अगर वहां के बच्चे एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस का डिप्लोमा प्राप्त कर लेंगे तो उन्हें जेवर एयरपोर्ट पर ही नौकरी मिल सकेगी।

पहले चरण में हमें कुल 3300 एकड़ जमीन उपलब्ध हुई थी। इसके लिए मैं किसान भाइयों का आभारी हूं। लोगों के लिए ये कौतूहल का विषय था। लोग मुझसे पूछते थे कि आपने ये कैसे किया तो मैं उन्हें बताता हूं कि मैंने किसानों से खुद बात की और प्रदेश के विकास का यह कार्य आसानी से हो गया। उन्होंने कहा कि आज जेवर में एयरपोर्ट, फिल्म सिटी, मेडिकल डिवाइस पार्क, हाईस्पीड ट्रेन और मेट्रो है। आने वाले समय में नोएडा और ग्रेटर नोएडा जेवर के सामने फेल हो जाएंगे। सीएम योगी ने कहा कि हर व्यक्ति को अपनी धरती से प्रेम होता है, स्वाभाविक होता है, लेकिन अपने व्यक्तिगत हित को किनारे रखते हुए आपने प्रदेश के विकास के लिए जो कदम उठाए हैं वो ऐतिहासिक है।

सीएम योगी ने कहा जिस क्षेत्र में एक समय अपराध चरम पर था। भट्टा परसौल जैसी घटना हुई थी। आने वाले समय में वह क्षेत्र सबसे विकसित क्षेत्र होगा। उन्होंने कहा कि एयरपोर्ट का निर्माण समय पर होगा और जैसे हमने इसके शिलान्यास के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बुलाया था। वैसे ही उद्घाटन के कार्यक्रम में भी प्रधानमंत्री मोदी को बुलाएंगे। उन्होंने कहा कि सरकार आपके साथ है और हमेशा आपका सहयोग करेगी।

किसानों ने कहा- एयरपोर्ट हमारे क्षेत्र को नई पहचान देगा:

किसान समय मोहम्मद ने कहा कि जब से सीएम योगी जी का शासन आया है हमारे यहां शांति है। अब जेवर में कहीं अपराध की घटनाएं नहीं होती हैं। यह एयरपोर्ट हमारे क्षेत्र को नई पहचान देगा। इसके लिए मैं सीएम योगी का आभारी हूं। सीएम योगी से निवेदन है कि हमें जहां भी बसाया जाए वहां हमारे बच्चों के लिए अच्छे स्कूल और कॉलेज जरूर खोले जाएं।

किसान हंसराज सिंह ने कहा कि जेवर एयरपोर्ट के प्रथम चरण के लिए जब जमीन अधिग्रहण को लेकर सहमति नहीं बन रही थी, तब मेरी सीएम योगी से मुलाकात हुई थी। इस दौरान आपने प्रदेश के युवाओं के भविष्य को लेकर जो बात कही थी उससे मैं बहुत प्रभावित हुआ था और प्रदेश के विकास को लेकर मैं अपनी जमीन देने को तैयार हो गया था। अब जब दूसरे चरण का अधिग्रहण शुरू होगा तब भी मैं आपके दृष्टिकोण को देखते हुए अपनी जमीन देने को तैयार हूं।

किसान रविन्द्र मुखिया ने कहा कि जेवर एयरपोर्ट के शुरू हो जाने से रोजगार बढ़ेगा। इसके लिए मैं सीएम योगी को धन्यवाद देता हूं। मेरा निवेदन है कि हमें जब शिफ्ट किया जाए तो हमारे गांव के युवाओं को रोजगार मिले इसका ध्यान रखा जाए।

किसान कुवंर पाल सिंह ने सीएम योगी को धन्यवाद देते हुए कहा कि आपने हमें समय दिया उसका आभारी हूं। उन्होंने कहा कि सीएम योगी से हमारा निवेदन है कि हमें जहां शिफ्ट किया जाए वहां हमें व्यवस्थित तरीके से बसाया जाए। एक गांव या रहवासी इलाके में जो सुविधाएं होती हैं वो हमें प्राप्त हो यही हमारी मांग है।

जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह ने कहा कि मैं पिछले दो दशक से गाजियाबाद और गौतमबुद्धनगर के किसानों को उनके जमीनों को उचित मुआवजा मिले इसके लिए आंदोलनरत हूँ। मैं आश्वस्त करता हूँ कि इस सरकार में दोनों जिलों के किसान मायूस नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के घर पर इतने किसानों की एक साथ बैठक होना और तत्काल निर्णय होना उनके चेहरे पर खुशी प्रदर्शित करती है।


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.