मंत्री के बंगले कोटरा लेकर पहुंची विधवा महिलाएं, BJP नेता गौरीशंकर ने दिया थाने के सामने धरना,जानिए पूरा मामला

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के शंकर में राज्य सरकार के वरिष्ठ मंत्री रविंद्र चौबे के घर के बाहर दिवंगत शिक्षकों की विधवाओं ने कोटरा प्रदर्शन दिया।

Raipur

oi-Dhirendra Giri Goswami

Google Oneindia News

छत्तीसगढ़
के
कृषि
मंत्री
रविंद्र
चौबे
के
बंगले
में
मंगलवार
को
दिवंगत
शिक्षकों
की
विधवाओं
ने
कोटरा
लेकर
प्रदर्शन
किया।
इस
प्रदर्शन
के
बाद
महिलाओं
को
पुलिस
ने
गिरफ्तार
कर
लिया।
गौरतलब
है
कि
राजधानी
रायपुर
में
बीते
एक
महीने
से
अनुकंपा
नियुक्ति
शिक्षाकर्मी
कल्याण
संघ
के
बैनर
तले
अनुकंपा
नियुक्ति
की
मांग
कर
रही
हैं।
विधवा
महिलाएं
अनुकंपा
नियुक्ति
की
मांग
कर
रही
हैं।

gourishankar shriwas bjp

महिलाओं
का
कहना
है
कि
उनके
शिक्षाकर्मी
पति
की
मृत्य
के
बाद
जीवन
यापन
मुश्किल
हो
चुका
है,इसलिए
उन्हें
अनुकंपा
नियुक्ति
दी
जानी
चाहिए।
मंत्री
रविंद्र
चौबे
के
शंकर
नगर
स्थित
बंगले
में
कोटरा
लेकर
कहा
कि
धान
का
कटोरा
कहे
जाने
वाले
छत्तीसगढ़
में
उनकी
हालत
भिक्षुओं
जैसी
हो
गई
है।

पुलिस
ने
महिलाओं
को
प्रदर्शन
करने
से
रोका,लेकिन
ना
मानने
पर
उन्हें
हिरसत
में
ले
लिया
गया।
इधर
इस
मामले
में
भाजपा
प्रवक्ता
गौरिशंका
श्रीवास
बेहद
सक्रिय
नजर
आये।
श्रीवास
महिलाओं
की
गिरफ्तारी
के
विरोध
में
सिविल
लाइन
थाने
के
सामने
धरने
पर
बैठ
गए।
गौरशंकर
श्रीवास
लगातार
एक
बाद
ट्विट
भी
करके
प्रदेश
सरकार
पर
हमलावर
नजर
आये
और
महिलाओं
की
रिहाई
के
संबंध
में
भी
जानकारी
साझा
की।

कुछ
दी
पहले
ही
राजधानी
के
बूढ़ातालाब
स्थित
धरना
स्थल
के
पास
स्थित
बूढ़ातालाब
में
दिवंगत
शिक्षाकर्मियों
की
पत्नियों
ने
छलांग
लगाकर
जान
देने
की
कोशिश
की
थी।
हालाकिं
मौके
पर
मौजूद
महिला
पुलिस
बल
ने
किसी
तरह
महिलाओं
को
तालाब
में
डूबने
में
बचा
लिया
था।

बहरहाल
करीब
200
महिलाएं
अपनी
मांगों
को
लेकर
लगातार
प्रदर्शन
कर
रही
हैं।
अनुकंपा
नियुक्ति
शिक्षाकर्मी
कल्याण
संघ
की
प्रांताध्यक्ष
माधुरी
मृगे
ने
बताया
कि
छत्तीसगढ़
सरकार
ने
1
जुलाई
2018
के
पूर्व
मृत
शिक्षाकर्मियों
के
परिवारों
को
अनुकंपा
देने
से
इंकार
कर
दिया
है।
जिसकी
वजह
से
उनके
सामने
जीवन
यापन
का
संकट
खड़ा
हो
चुका
है।
राज्य
सरकार
ने
डीएड,बीएड
का
प्रावधान
रखा
है,
फिर
भी
डीएड,बीएड
कर
चुकी
महिलाओं
को
नियुक्ति
नहीं
दी
जा
रही
हैं।
गौरतलब
है
कि
छत्तीसगढ़
सरकार
की
घोषणा
के
अनुसार
दिवंगत
शिक्षाकर्मियों
के
परिजनों
को
अनुकंपा
नियुक्ति
के
लिए
पात्रता
का
परीक्षण
कर
सुझाव
एवं
सेवा
शर्ते
निर्धारित
करने
के
लिए
अपर
मुख्य
सचिव
रेणु
पिल्ले
की
अध्यक्षता
में
समिति
का
गठन
किया
गया
था,लेकिन
8
महीने
बाद
भी
समिति
ने
अपनी
रिपोर्ट
सार्वजनिक
नहीं
की
है।


यह
भी
पढ़ें

ब्रह्मानंद
नेताम
को
गिरफ्तार
करने
पहुंची
झारखंड
पुलिस,
दिखाया
हाईकोर्ट
का
आदेश,लौटना
पड़ा
खाली
हाथ

English summary

Widow women reached minister’s bungalow Kotra, BJP leader Shrivas protested front of police station

Story first published: Monday, December 5, 2022, 20:13 [IST]



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *