बिहार का एकमात्र मंदिर जहां एक साथ होती है 108 शिवलिंग की पूजा, जानें मान्यता

रिपोर्ट- अमितेश भारद्वाज

मोतिहारी. आमतौर पर मंदिरों में एक प्रमुख शिवलिंग होता है, जिसकी पूजा लोग करते हैं. इसके अलावा मंदिर परिसर में इक्का-दुक्का अन्य शिवलिंग भी होता है. लेकिन, बिहार के मोतिहारी शहर से 40 किलोमीटर दूर पहाड़पुर प्रखंड के मनकररिया पंचायत में स्थित महादेव का एक ऐसा अद्भुत और अद्वितीय मंदिर है, जहां एक साथ एक छत के नीचे 108 शिवलिंग की पूजा की जाती है. जानकारों की माने तो राजस्थान के कोटा के बाद ऐसा मंदिर देश में कहीं और देखने को नहीं मिलता है. मनकररिया पंचायत में स्थापित यह मंदिर देश का दूसरा और बिहार का एकमात्र ऐसा शिवधाम है.

100-100 KM दूर से पूजा करने आते हैं भक्त
मोतिहारी के पहाड़पुर प्रखंड के मनकररिया पंचायत में स्थित महादेव का यहमंदिर कई मायनों में खास है. भक्तों की मनोकामना बाबा महादेव के द्वारा पूर्ण करना इस स्थल को खास बनाता है. वैसे तो यहां सालों भर श्रद्धालु पूजा करने आते हैं, लेकिन खासकर श्रावण मास और महाशिवरात्रि के दिन यहां भक्तों की अधिक भीड़ उमड़ती है. महाशिवरात्रि और श्रावण मास में लोग 100-100 किलोमीटर दूर-दूर से यहां पूजा और जलाभिषेक करने आते हैं. मंदिर की खास विशेषता यह है कि यहां भक्त जो भी मनोकामना को लेकर आते हैं और जलाभिषेक कर अपनी अर्जी लगाते हैं, उनकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होती है.

भक्तों की हर मन्नत होती है पूरी
कई लोगों का कहना है कि मन्नत पूरी होने के बाद भक्त यहां कथा अष्टयाम या फिर रुद्राभिषेक कराते हैं. यही नहीं, यहां मंदिर का निर्माण भी भक्तों और ग्रामीणों के सहयोग से किया गया. जिसका आकर्षक रूप अद्भुत दिखता है. मंदिर के संरक्षकशर्माजी दुबे बताते हैं कि मनकरिया पंचायत के विषही गांव में स्थापित 108 शिवलिंग का शिवधाम मंदिर का निर्माण ग्रामीणों और भक्तों के सहयोग से किया गया है. यहां परभक्तजन हमेशा हवन-पूजन, अभिषेक करने आते रहते हैं.

वे कहते हैं कि बड़ी संख्या में यहां महिला और पुरुष भक्त पूजा करने आते हैं, लेकिन प्रसाधन और स्वच्छ पानी की व्यवस्था नहीं हो पाने के कारण थोड़ी कठिनाई होती है. उन्होंने जिला प्रशासन से मांग की है कि इस धार्मिक स्थल पर इसकी व्यवस्था की जाए.

Tags: Bihar News, Hindu Temple, Hinduism, Lord Shiva, Motihari news

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.