बालाघाट के इस खूबसूरत वॉटर फॉल को एक बार देखेंगे तो यहां बार-बार आने का करेगा दिल…

बालाघाट: मप्र का बालाघाट जिला प्राकृतिक धरोहरों के बलबूते एक अलग पहचान रखता है. यहां कान्हा नेशनल पार्क के अलावा कई सुंदर व मन लुभावने दार्शनिक स्थल भी हैं, जिन्हे निहारने हर साल हजारों अन्य प्रदेशों से पर्यटक बालाघाट पहुंचते हैं और बालाघाट में फैली प्रकृति की सुंदर छटा का आंनद लेते हैं. ऐसा ही एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है गांगुलपारा वाटरफाल.

बालाघाट जिला मुख्यालय से महज 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. बालाघाट जिले का बहुचर्चित और खूबसूरतगांगुलपारा वाटरफॉल, यहां लगभग 150 फीट उंची पहाडी से पानी की धारा चट्टानों से टकराते हुए नीचे उतरती है और यही नजारा पर्यटकों के दिल को छू जाता है. यूं तो बालाघाट जिला नक्सल प्रभावित जिला है, जहां आए दिन नक्सली गतिविधियां देखने को मिलती है. ऐसे में यहां आने से पहले लोगों में एक दहशत सी रहती है, लेकिन इसके परे बालाघाट जिले का सबसे खूबसूरत एक ऐसा झरना है जो प्रकृति की गोद में है और नक्सली गतिविधियों से कोसो दूर है..

अमूल्य धरोहरों में से एक है यह झरना
यह झरना बेहद खूबसूरत होने के साथ साथ प्रकृति की अमूल्य धरोहरो में से एक है.. बड़ी बात यह है कि यहां पर किसी प्रकार की कोई नक्सली गतिविधियां देखने को नही मिलती ऐसे में निसंकोच होकर दूर दूर से पर्यटक यहां प्रकृति का दीदार करने आते है और इसकी खूबसूरती को अपने कैमरे में कैद भी करते है. इतना ही नहीं, यहां से बहुत सी जुडी यादों को अपने साथ लेकर जाते है और अपने दोस्त व रिश्तेदारो के बीच साझा भी करते है. जिसके बाद वे लोग भी इस झरने को देखने आने के लिये अपने आप को रोक नही पाते हैं.

कुछ ऐसे ही पर्यटकों ने न्यूज 18 की टीम से चर्चा की और कहा कि हमने इस जगह में बारे में बहुत सुना था और आज आकर देख भी लिया.. इसके बाारे में जितना सुना था उससे कई गुना ज्यादा हमें इसकी खूबसूरती देखने मिली. शहर की चकाचौंध में वो आनंद कभी नही मिल पाता, जो हम प्रकृति के बीच कुछ पल गुजारकर पाते है और वही आंनन्द हमने यहां आकर पाया भी है.. बालाघाट जिले का यह गांगुलपारा झरना बेहद स्मरणीय है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : December 08, 2022, 20:05 IST

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *