पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ने ‘समझौते’ के तहत पीएमएल-एन नेताओं को बरी करने का दावा झूठा

प्रतिरूप फोटो

Google Creative Commons

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने शुक्रवार को एक वरिष्ठ नेता की इस टिप्पणी को खारिज कर दिया कि हाल ही में भ्रष्टाचार के मामलों में प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ और पीएमएल-एन के अन्य नेताओं को सेना के साथ हुए एक समझौते के कारण बरी किया गया है।

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने शुक्रवार को एक वरिष्ठ नेता की इस टिप्पणी को खारिज कर दिया कि हाल ही में भ्रष्टाचार के मामलों में प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ और पीएमएल-एन के अन्य नेताओं को सेना के साथ हुए एक समझौते के कारण बरी किया गया है। उन्होंने इस दावे को गलत बताया।
लाहौर की एक भ्रष्टाचार रोधी अदालत ने इस हफ्ते प्रधानमंत्री और उनके बेटे हमजा शहबाज के खिलाफ 16 अरब रुपये के धनशोधन मामले को खारिज कर दिया था।

इससे पहले इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएलएन) की उपाध्यक्ष मरियम नवाज को चर्चित भ्रष्टाचार मामले में आरोप मुक्त करार दिया था।
पूर्व गृह मंत्री और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के असंतुष्ट नेता एतेजाज़ एहसान ने इस सप्ताह कहा था कि सेना नेभ्रष्टाचार के मामलों से मुक्त होने में शरीफ परिवार की मदद की।
एहसान ने कहा था, “बाजवा (सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा) साहब ने उन्हें (शरीफ परिवार को) मामलों में दोषसिद्धि से बचाया है और उन्होंने एक बड़ा अपराध किया है।”

एहसान की टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया देते हुए रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने कहा कि एहसान एक “गद्दार” हैं और उन्होंने “निजी कुंठा” के चलते यह टिप्पणी की है।
आसिफ ने कहा कि पीएमएल-एन नेताओं ने हमेशा संविधान और अदालतों का सम्मान किया है और हाल के अदालती फैसलों ने उनकी बेगुनाही साबित की है।
उन्होंने कहा, हमने अपनी कथनी और करनी से साबित कर दिया है कि हम संविधान का उल्लंघन नहीं करना चाहते और अदालतों ने समझ के आधार पर फैसला सुनाया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



अन्य न्यूज़



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.