दिवालिया हुई क्रिप्टो कंपनी FTX: CEO बैंकमैन की नेटवर्थ 16 बिलियन डॉलर से 0, किसी बिजनेसमैन की वेल्थ में अब तक की सबसे बड़ी गिरावट

  • Hindi News
  • Business
  • FTX Rading Limited Collapse: Sam Bankman Fried’s Assets Plummet From $16 Billion To Zero In Days

6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

क्रिप्टो कंपनी FTX ट्रेडिंग लिमिटेड के को-फाउंडर सैम बैंकमैन-फ्राइड की 16 बिलियन डॉलर की वेल्थ जीरो हो गई है। यह इतिहास में किसी बिजनेसमैन की वेल्थ में अब तक की सबसे बड़ी गिरावट है। एक समय सैम बैंकमैन की नेटवर्थ 26 बिलियन डॉलर पर पहुंच गई थी। इसका कारण लिक्विडिटी क्रंच के बाद FTX ट्रेडिंग लिमिटेड का दिवालिया होना है।

FTX दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी एफिलिएटेड क्रिप्टो ट्रेडिंग कंपनी थी। ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स अब FTX के अमेरिकी कारोबार की वैल्यू 0 दिखा रहा है। जनवरी में फंड रेजिंग राउंड में इसकी वैल्यू 8 बिलियन डॉलर थी। 30 साल के सैम बैंकमैन अब कंपनी में अपने CEO पद से इस्तिफा दे चुके हैं। उनकी जगह जॉन जे रे III CEO पद संभालेंगे।

‘किंग ऑफ क्रिप्टो’ ने मांगी माफी
‘किंग ऑफ क्रिप्टो’ के नाम से पहचाने जाने वाले सैम बैंकमैन ने शुक्रवार को ट्वीट कर लिखा, ‘मैं माफी मांगता हूं कि हम यहां पर समाप्त हो गए हैं। उम्मीद है कि हम जल्द ही रिकवर होने के लिए रास्ता खोज लेंगे।’ इस कंपनी में बैंकमैन-फ्राइड की लगभग 70% हिस्सेदारी है।

कैसे दिवालिया हुआ FTX?
इसे समझने के लिए FTX और बाइनेंस क्या हैं इसे समझना होगा।

FTX और बाइनेंस क्या हैं?
FTX और बाइनेंस क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज हैं। यानी वे ग्राहकों को डिजिटल करेंसी में ट्रेडिंग करेने की सुविधा देते हैं। इंडस्ट्री डेटा ट्रैकर कॉइन मार्केट कैप के अनुसार, ये दोनों एक्सचेंज दुनिया के सभी क्रिप्टो ट्रेडों में से ज्यादातर को प्रोसेस करते हैं। FTX दुनिया के सबसे बड़े एक्सचेंजों में से एक था।

इसे, सैम बैंकमैन-फ्राइड चलाते थे। इसका मुख्यालय बहामास में है। सबसे बड़ा एक्सचेंज बाइनेंस है जिसे अरबपति चांगपेंग झाओ चलाते हैं। इसका कोई आधिकारिक मुख्यालय नहीं है और बड़े पैमाने पर अमेरिका के बाहर काम करता है। FTX में शुरुआती निवेशकों में एक बाइनेंस भी था।

FTX मुश्किल में क्यों आया?
FTX में FTT नामक एक नेटिव क्रिप्टोकरेंसी टोकन है, जिसका इस्तेमाल ट्रेडर्स ट्रांजैक्शन फीस पेमेंट करने जैसे ऑपरेशन के लिए करते हैं। पिछले साल, झाओ ने FTX में अपनी हिस्सेदारी बैंकमैन-फ्राइड को वापस बेच दी थी।

इसके लिए फ्राइड ने आंशिक रूप से FTT टोकन के साथ पेमेंट किया। 2 नवंबर को, क्रिप्टो पब्लिकेशन कॉइनडेस्क ने एक लीक हुए दस्तावेज़ पर रिपोर्ट पब्लिश की। इस दस्तावेज से पता चलता है कि बैंकमैन-फ्राइड के संचालित एक हेज फंड, अल्मेडा रिसर्च में असामान्य रूप से बड़ी मात्रा में एफटीटी टोकन थे।

ये तस्वीर उस वक्त की है जब FTX के CEO सैम बैंकमैन-फ्राइड इस साल की शुरुआत में क्रिप्टोकरेंसी पर सीनेट की एक समिति की सुनवाई में उपस्थित हुए थे।

ये तस्वीर उस वक्त की है जब FTX के CEO सैम बैंकमैन-फ्राइड इस साल की शुरुआत में क्रिप्टोकरेंसी पर सीनेट की एक समिति की सुनवाई में उपस्थित हुए थे।

FTX और अल्मेडा अलग-अलग बिजनेस हैं, लेकिन रिपोर्ट में दावा किया गया है कि उनके बीच घनिष्ठ वित्तीय संबंध थे। इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद बाइनेंस ने 6 नवंबर को घोषणा की कि वह “हाल के खुलासे के कारण” अपने FTT टोकन बेचेगा। इससे FTT की कीमत गिर गई और ट्रेडर इस डर से FTX से बाहर निकलने के लिए दौड़ पड़े कि ये क्रिप्टो कंपनी डूब जाएगी।

FTX के पास तीन दिनों में अनुमानित 6 बिलियन डॉलर की विड्रॉल रिक्वेस्ट आ गई। FTX अचानक आई इतनी विड्रॉल रिक्वेस्ट से लिक्विडिटी क्रंच में आ गया यानी वो विड्रॉल रिक्वेस्ट को प्रोसेस करने की स्थिति में नहीं था।

बाइनेंस ने कहा- वह FTX को खरीदेगा
FTX के लिक्विडिटी क्रंच के बीच मंगलवार को बाइनेंस ने कहा कि वो FTX को खरीदेगा। हालांकि झाओ ने ये भी साफ किया कि बाइनेंस किसी भी समय इस डील से बाहर आ सकता है। इसके अग्रीमेंट के बाद बैंकमैन-फ्राइड ने कहा कि यह डील ग्राहकों को प्रोटेक्ट करेगा और FTX को ट्रेडर्स की विड्रॉल प्रोसेस पूरी करने में सक्षम बनाएगा। इस दौरान उन्होंने FTX और बाइनेंस के बीच के कॉन्फ्लिक्ट की अफवाहों को भी दूर करने का प्रयास किया।

तस्वीर में बाइनेंस के CEO चांगपेंग झाओ। FTX के लिक्विडिटी क्रंच के बीच मंगलवार को बाइनेंस ने कहा था कि वो FTX को खरीदेगा।

तस्वीर में बाइनेंस के CEO चांगपेंग झाओ। FTX के लिक्विडिटी क्रंच के बीच मंगलवार को बाइनेंस ने कहा था कि वो FTX को खरीदेगा।

बाइनेंस और FTX के बीच डील टूटी
बुधवार को, बाइनेंस ने घोषणा की कि वह अब FTX नहीं खरीदेगा। डील तोड़ने का कारण उन्होंने कॉर्पोरेट ड्यू डिलिजेंस को बताया। बाइनेंस ने नियामक जांच और गलत तरीके से फंड की रिपोर्ट का भी हवाला दिया। बाइनेंस ने ये भी कहा कि जब भी किसी इंडस्ट्री में कोई मेजर प्लेयर फेल होता है, तो रिटेल कंज्यूमर्स को नुकसान होता है। इसके बाद शुक्रवार को बैंकमैन-फ्राइड के इस्तीफे के साथ FTX ने बैंकरप्सी फाइल की।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.