डीएम-एसपी ने बाइक से की 18 किलोमीटर की जंगल यात्रा, पहुंचे मुंगेर के नक्सल प्रभावित क्षेत्र में

रिपोर्ट : सिद्धांत राज

मुंगेर. सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत 18 किमी जंगलों में बाइक से चलकर ज़िले के धरहरा प्रखंड क्षेत्र के नक्सल प्रभावित क्षेत्र पैसरा गांव पहुंचे डीएम-एसपी. गांव में पहुंचकर जगाया शिक्षा का अलख, सिविल एक्शन प्रोग्राम के तहत जीविका दीदियों को डीएम ने दिए 49.58 लाख रुपये का चेक.

दरअसल, जिलाधिकारी नवीन कुमार, एसपी जगुनाथ रेड्डी की मौजूदगी में धरहरा प्रखंड के नक्सल प्रभावित क्षेत्र पैसरा गांव में 207 कोबड़ा बटालियन सीआरपीएफ कैम्प में आयोजित सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का आयोजन किया गया. वहीं जिलाधिकारी नवीन कुमार ने इस कार्यक्रम में पेसरा, न्यू पेसरा, राजासराय, कनदनिया, तितरपनिया एवं आसपास के ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में आकर आपकी समस्याओं की जानकारी हुई. उन समस्याओं के निराकरण की दिशा में जिला प्रशासन पूरी संवेदनशीलता के साथ तत्पर है.

डीएम ने कहा कि अपने बच्चों की पढ़ाई लिखाई पर विशेष ध्यान दें. पढ़ाई के माध्यम से ही आप अपने बच्चों को जीवन आगे बढ़ा सकते हैं. रोजगार के अन्य विकल्पों को तलाश करें. जंगल की सीमा से निकलकर मुख्यधारा में सम्मिलित होकर अपने काम को आगे बढ़ाएं. पुलिस एवं प्रशासन आपके साथ है, किसी के बहकावे में न आएं. हम सभी आपको आगे बढ़ाने के लिए आए हैं, आप भी आगे बढ़ने के लिए इच्छुक हों.

जल्द ही मिलेंगी कई सुविधाएं- DM

जिलाधिकारी ने कहा कि पानी की समस्या के संदर्भ में पेसरा में पूर्व से संस्थापित बड़ा हैन्डपम्प के अतिरिक्त 2 हैन्डपम्प लगाए जाएंगे. न्यू पेसरा में सरकार की नल जल योजना के अन्तर्गत आगामी बुधवार को शिलान्यास कर कार्य आरंभ किया जाएगा. सप्ताह में 2 दिन बुधवार और शनिवार को एम्बुलेंस के माध्यम से हेल्थ कैम्प का आयोजन किया जाएगा. राशन कार्ड जिनका नहीं बना है, खो गया है एवं परिवार अलग है. उनके लिए कैम्प के माध्यम से राशन कार्ड बनाया जाएगा. न्यू पेसरा में एक अतिरिक्त सामुदायिक शौचालय परिसर का निर्माण कराया जाएगा. व्यक्तिगत शौचालय निर्माण हेतु 12 हजार की राशि दी जा रही है. जिलाधिकारी ने लोगों को स्वरोजगार के लिए प्रेरित करते हुए कहा कि लकड़ी चुनने, मजदूरी करने आदि काम से आगे बढ़ें, स्वरोजगार के अन्य माध्यमों को तलाश कर आर्थिक रूप से अपने आप को आत्मनिर्भर बनाएं.

एसपी ने कहा- यहां पहले से बहुत कुछ बदला

एसपी जगुनाथ रेड्डी जलारेड्डी ने कहा कि जब वह जमुई एसपी थे, तो इस जगह का चयन सीआरएफ कैंप के लिए किया गया था. अब यहां बहुत कुछ बदल गया है. उस वक्त नक्सलियों के खिलाफ किसी तरह का अभियान चलाने में काफी परेशानी होती थी. जंगल में तीन-तीन सीआरपीएफ कैंप खुल जाने से नक्सलियों के ऊपर पूरी तरह नियंत्रण हुआ है. एसपी ने कहा कि जो भी नक्सली फरार हैं वे मुख्यधारा से जुड़े नहीं तो बड़ी कार्रवाई की जाएगी.

Tags: Bihar News, Munger news, Naxal affected area

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *