डकैत गुड्डा गुर्जर का बड़ा खुलासा: एक थानेदार करता था वारदात में मदद, टेरर टैक्स लेकर बना जमींदार

ग्वालियर: चंबल का डकैत गुड्डा गुर्जर पुलिस की गिरफ्त में है। उसे लेकर हर दिन नए-नए खुलासे हो रहे हैं। गुड्डा गुर्जर टेरर टैक्स वसूल कर जमीदार बना था। उसने अपना खौफ दिखाकर लाखों रुपया टेरर टैक्स वसूल किया और टेरर टैक्स की रकम से 30 बीघा जमीन खरीद कर जमीदार बन गया। जानकारी के अनुसार, गुड्डा गुर्जर का थानेदार से भी संपर्क था जो उसकी मदद करता था। पुलिस अधिकारियों के पास उस थाना प्रभारी की पूरी कुंडली पहुंच गई है। दरअसल, ग्वालियर पुलिस ने साठ हजार के इनामी डकैत गुड्डा गुर्जर को भंवरपुरा इलाके में शार्ट एनकाउंटर करके दबोच लिया है। गुड्डा गुर्जर के पैर में गोली लगने से गुड्डा गुर्जर घायल हो गया था। गुड्डा गुर्जर को ग्वालियर पुलिस ने शुक्रवार के दिन जिला कोर्ट में भी पेश किया था।

पुलिस से पूछताछ में कबूल किया जुर्म
गोली लगने की वजह से गुड्डा गुर्जर का जयारोग्य अस्पताल में अभी उपचार चल रहा है। इस दौरान पुलिस लगातार गुड्डा गुर्जर से पूछताछ कर रही है। पुलिस की पूछताछ में गुड्डा गुर्जर ने इस बात को कबूल किया है कि उसने बीहड़ों में रहते हुए टेरर टैक्स वसूला है। यह टेरर टैक्स उसने कई कारोबारियों से वसूला है। गुड्डा गुर्जर ने बताया कि उसे जो भी पैसा मिला उस पैसे से उसने 30 बीघा जमीन खरीदी। इस तरह गुड्डा गुर्जर ने टेरर टैक्स के रुपयों को ठिकाने लगा दिया। 30 बीघा जमीन का मालिक बनकर डकैत गुर्जर किसी जमीदार से कम नहीं है।
इसे भी पढ़ें-
बैसाखी पर चलने को मजबूर हुआ चंबल का डकैत, कभी बीहड़ में इसके नाम का था खौफ

थानेदार करता था मदद
डकैत गुड्डा गुर्जर से मिली जानकारी के अनुसार चम्बल में पदस्थ एक थानेदार द्वारा डकैत गुड्डा गुर्जर की मदद की जाती रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार थानेदार डकैत गुड्डा गुर्जर का सजातीय है। थानेदार के पास डकैत गुड्डा गुर्जर के हर मूवमेंट की खबर होती थी लेकिन डकैत गुड्डा गुर्जर का सहयोग करते हुए थानेदार अपने वरिष्ठ अधिकारियों को कुछ भी जानकारी नहीं देता था। पूछताछ में डकैत गुड्डा गुर्जर ने उस थानेदार के बारे में भी पुलिस अधिकारियों को जानकारी दी है। गुड्डा गुर्जर की मदद करने वाले थानेदार की कुंडली पुलिस अधिकारियों तक पहुंच गई है। इसकी जानकारी भोपाल भी भेज दी गई है।

उस अधिकारी के थाना क्षेत्र में नहीं करता था वारदात
गुड्डा गुर्जर ने सजातीय थानेदार के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि उसके सहयोग की वजह से डकैत गुड्डा गुर्जर कभी उसके थाना क्षेत्र में कोई वारदात को अंजाम नहीं देता था। इसके अलावा डकैत गुड्डा गुर्जर से जानकारी मिली है कि वह अपने पास कभी मोबाइल नहीं रखता था लेकिन वह अपने पास एक डायरी रखता था और इस डायरी में अपने सभी संपर्क वालों के नाम और नंबर लिखा करता था लेकिन फिलहाल डकैत गुड्डा गुर्जर की डायरी पुलिस के हाथ नहीं लग सकी है। पुलिस अभी लगातार डकैत गुड्डा से पूछताछ कर रही है।
इसे भी पढ़ें-
Gudda Gurjar: डकैत गुड्डा गुर्जर अरेस्‍ट… भाई, भतीजी से लेकर साढू तक अब पूरा परिवार पहुंचा जेल
जल्द हो सकती है पूछताछ
पुलिस को उम्मीद है कि डकैत गुड्डा गुर्जर से और बड़े खुलासे हो सकते हैं। पुलिस को यह भी जानकारी मिल सकती है चुनाव के समय किसी नेता की मदद की है या नहीं या फिर बीहड़ो में रहते हुए डकैत गुर्जर द्वारा किसी नेता का सहयोग किया गया या नहीं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.