जब हम स्वास्थ्य मंत्री थे तो डॉक्टरों का बुखार छोड़ा दिए थे, अब जंगल के राजा हैं- तेज प्रताप

जहानाबाद. आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप अपने विवादास्पद बोल के कारण जाने जाते हैं. एक बार फिर उन्होंने कुछ ऐसा बोल दिया कि उनकी बातें जमकर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. बिहार के स्वास्थ्य मंत्री रह चुके तेज प्रताप यादव को अब भी पुराने विभाग की याद बहुत आती है.

दरअसल जहानाबाद में एक निजी कार्यक्रम के लिए पहुंचे तेज प्रताप यादव ने कहा कि जब वे स्वास्थ्य मंत्री थे तो डॉक्टरों का बुखार छुड़ा देते थे, लेकिन अब उन्हें जंगल का राजा बना दिया गया है. बुधवार की देर शाम जहानाबाद के मीरा बीघा गांव में तेज प्रताप यादव एक श्राद्ध कार्यक्रम में शामिल हुए, जहां उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए खुले मंच से कहा कि जब हम स्वास्थ्य मंत्री थे तो एक-एक डॉक्टर का बुखार छुड़ा देते थे.

इस दौरान उन्होंने नौजवानों को समझाते हुए कहा कि आजकल के नौजवान जरा सी बात पर आत्महत्या कर लेते हैं. नदी में कूद जाते हैं. ऐसे करने से वह कोई हनुमान नहीं बन जाएंगे. इन सब बातों को नौजवानों को ध्यान में रखना होगा. उन्होंने कहा कि जब मेरे पास स्वास्थ्य विभाग था तो डॉक्टर्स से लेकर तमाम चिकित्साकर्मी सजग रहते थे और लोगों का सही ढंग से इलाज होता था. मैं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को अपने काम के प्रति सजग रहने का निर्देश देता था.

उन्होंने साफ तौर पर कहा कि मुझे जो विभाग मिला है उसने हमें जंगल का राजा बना दिया है. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मेरा पशु पक्षियों के प्रति प्रेम है, यही कारण है कि मैंने पटना में एक मोर को मृत अवस्था में देखा तो उसकी सूचना विभाग के अधिकारियों को दी.

उन्होंने कहा कि आने वाले लोकसभा चुनाव में जिस तरह से बिहार में महागठबंधन की सरकार बनी है, उसी की तर्ज पर देश में भी महागठबंधन की सरकार बनेगी. आगे की रणनीति के बारे में पूछे जाने पर तेज प्रताप ने कहा कि रणनीति का खुलासा अभी नहीं करेंगे. इस मौके पर उन्होंने युवाओं को संदेश दिया और कहा कि आप अपने मेहनत की बदौलत आगे बढ़िए. आसमान से कूद जाने से कोई हनुमान नहीं बन जाता है.

Tags: Bihar politics, Jehanabad news, Tej Pratap Yadav

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.