उदयपुर में रेल ट्रैक उड़ाने की साजिश नाकाम, गांव वालों की सूझबूझ से टला हादसा

पटरी के बीच लगी लोहे की प्लेट भी उखड़ी हुई मिली

उदयुपर:

राजस्थान के उदयपुर में जी-20 शिखर सम्मेलन से पहले एक बड़ी साजिश नाकाम हो गई. दरअसल यहां रेलवे ट्रैक ब्लास्ट करने का मामला सामने आया है. ग्रामीणों ने जैसे ही धमाके की आवाज सुनी तो उन्होंने इसकी सूचना उच्च अधिकारियों को दी. जिसके बाद इस साजिश को नाकाम किया गया. रेलवे ट्रैक पर से कई नट-बोल्ट भी गायब मिले. शुक्र इस बात का रहा कि ग्रामीणों की सूझबूझ से एक बड़ा हादसा टल गया.

उदयपुर सलूम्बर मेघा हाइवे पर ओडा पुल के पास रेलवे ट्रैक क्षतिग्रस्त की घटना हुई. ट्रैक के स्थानों से नट-बोल्ट गायब भी मिले. पटरी के बीच लगी लोहे की प्लेट भी उखड़ी हुई मिली. पास ही रहने वाले ग्रामीणों के मुताबिक उन्होंने देर रात पुल पर धमाके की आवाज भी सुनी थी. बताया जा रहा है कि धमाके से करीब 4 घंटे पहले ही यहां से एक ट्रेन गुजरी थी.

सुबह ग्रामीणों की सूचना पर रेलवे के उच्च अधिकारी मौके पर पहुंचे. साथ ही  उदयपुर संभागीय आयुक्त राजेंद्र भट्ट ,  जिला कलेक्टर ताराचंद मीणा व एसपी विकास  कुमार शर्मा भी मौका मुआयना करने पहुंचे. इस बीच अहमदाबाद से उदयपुर आ रही ट्रेन को डूंगरपुर में रोका गया है. रेलवे प्रबंधक ने इस लाइन पर चलने वाली दोनों ट्रेनों को फिलहाल रोक दिया है. स्थानीय लोगों ने रेलवे ट्रैक से हुई छेड़छाड़ की खबर पुलिस तक पहुंचाई. उनकी सजगता से बड़ा हादसा टल गया. ट्रैक से ये शरारत शनिवार रात की बताई जा रही है.

       

घटना शनिवार देर रात सलूंबर मार्ग पर केवड़े की नाल में आढो रेलवे पुल पर घटी. यहां स्थानीय ग्रामीणों ने धमाके की आवाज सुनी. जिसके बाद स्थानीय पुलिस और अन्य लोगों को इसकी सूचना दी गई थी. आपको बता दे कि उदयपुर अहमदाबाद ट्रेन की शुरुआत पीएम नरेन्द्र मोदी ने 31 अक्टूबर 2022 को असारवा स्टेशन से हरी झंडी दिखाकर की थी. इस ट्रैक के लिए 16 साल लंबा इंतजार करना पड़ा था .

Featured Video Of The Day

देश- प्रदेश : पूर्व सीजेआई यूयू ललित ने एनडीटीवी से की खास बातचीत

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.