इस झरने में नहाने से कपल्स के बीच बढ़ता है प्‍यार, दूरियां हैं तो आ जाते हैं नजदीक  

रिपोर्ट सुनील रजक

शिवपुरी: मध्यप्रदेश के शिवपुरी में एक ऐसा झरना है जहां प्रेमी युगल या कपल के बीच झगड़ा होने पर इस झरने के नीचे नहाने से झगड़ा और मनमुटाव दूर होता है. लोगों का कहना है किअगर आपके साथी और आपके बीच कोई मनमुटाव या झगड़ा है तो इस झरने में अवश्य नहाएं,यह झरना भदैया कुंड के नाम से जाना जाता है वही मंदिर के ऊपर से पानी झरने के रूप में नीचे गिरता है और जिस कुंड में इकट्ठा होता है उसे भदैया कुंड कहा जाता है.

डेढ़ सौ साल पुराना है यह झरना

शिवपुरी के भदैया कुंड का यह झरना लगभग डेढ़ सौ साल पुराना है. आपको बता दें कि बुजुर्गों ने इस बात को कहा था, जिसके बादइस झरने में नहाने के दौरान कपल्स मन्नत मांगने लगे, और आश्चर्य की बात कि कई जोड़े इस झरने के नीचे खड़े होकर नहाए औरअलग होने से बचे, उनके बीच प्यार बढ़ने लगा. स्थानीय लोगों का कहना है किइस झरने कापानी बहुत अच्छा है.जो लोग इसे पीते हैं उन्हें अमृत पीनेजैसा अहसास होता है. इस झरने में नहाने के बादकपल्स के बीच लड़ाई झगड़ेमें कमी आ जाती है.

यह है मान्यता

स्थानीय बुजुर्गों का कहना है कि कई सालों पहले एक प्रेमी जोड़े ने यहां तपस्या की थी, जिसके बाद उन्हें वरदान में यह प्राप्त हुआ कि इस झरने में नहाने से कपल्स और पार्टनर्स के बीच लड़ाई झगड़ा नहीं होगा.उम्र भर के लिए उनका प्यार अमर हो जाएगा.

पानी नहीं होता है कम

गर्मी के मौसम में भी भदैया कुंड में पानी कम नहीं होता है वही चट्टानों से पानी रिसकर झरने के रूप में नीचे गिरता है और कुंड में इकट्ठा होता है जिसे भदैया कुंड कहा जाता है. आपको बता दें कि एक समय सिंधिया रियासत की ग्रीष्मकालीन राजधानी शिवपुरी ही थी, राजघराने के लोग भी इस कुंड पर आते थे.

झरने के पास शिव जी की मूर्ति और चार गोमुख हैं

झरने के पास ही शिव जी की मूर्ति और सामने नंदी बैठे हुए हैं वही चार गौमुख भी हैं. से पानी नीचे बहता है, लेकिन पानी कहां से आता है, अभी तक यह पता नहीं लग सकाहै. यहां आने वाले पर्यटकइस पानी को बॉटल में भरकरअपने साथ ले जाते हैं. बस इसी उम्मीद में कि यदि हमारे बीच कोई मनमुटाव होगा तो यह पानी पी लेने से दूरियां, नजदीकियों में बदल जाएंगी.

Tags: Mp news, Shivpuri News

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *